Daesh News

खेतों में बने ईंधन पर चलेगी 100% एथेनॉल कार, नितिन गडकरी ने किया लॉन्च

अब वो दिन दूर नहीं जब देश में पेट्रोल और डीजल के दाम में भारी गिरावट देखने के लिए मिलेगी. पेट्रोल-डीजल के इस्तेमाल से होने वाले प्रदूषण के कारण देश और दुनिया में कई तरह के उपाय निकाले जा रहे हैं. पर्यावरण को किसी तरह क्षति नहीं पहुंचे उसे लेकर हर तरह के उचित प्रयास किये जा रहे हैं. इसी क्रम में आज केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने 100% एथेनॉल फ्यूल पर चलने वाली कार टोयोटा इनोवा हाईक्रॉस अनवील कर दी है. इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इस दौरान यह भी दावा किया कि, आने वाले दिनों में एथेनॉल के इस्तेमाल से देश में पेट्रोल की कीमत 15 रुपये प्रति लीटर पर आ सकती है. 

जानकारी के मुताबिक, यह कार दुनिया की पहली इलेक्ट्रिफाइड फ्लेक्स फ्यूल व्हीकल का प्रोटोटाइप है. इसके साथ ही कार में इस्तेमाल किये जाने वाले फ्यूल की भी बड़ी खासियत है. दरअसल, यह तेल के कुओं से नहीं, बल्कि किसानों के खेतों से आता है. साथ ही यह पेट्रोल-डीजल के मुकाबले प्रदूषण भी कम करता है. बता दें कि, एथेनॉल एक तरह का अल्कोहल है, जिसे गन्ने के रस, मक्का, आलू, कसावा और सड़ी सब्जियों के फर्मेंटेशन से तैयार किया जाता है. स्टार्च और शुगर के फर्मेंटेशन से बने एथेनॉल को पेट्रोल में मिलाकर बायोफ्यूल या फ्लेक्स फ्यूल की तरह इस्तेमाल किया जाता है. 

इसके बाद तैयार किए गए फ्लेक्स फ्यूल को पेट्रोल पंप में भेजा जाता है जहां से फ्यूल वाहनों में जाता है. फ्लेक्स फ्यूल से चलने वाले वाहन भी अलग तरह के होते हैं. दरअसल, इन वाहनों के इंजन को फ्लेक्स फ्यूल या बायो फ्यूल से चलाने के लिए खासतौर पर तैयार किया जाता है. खबर यह भी है कि, एथेनॉल फ्यूल पर चलने वाली कार अभी और लांच की जाएगी. 2025-2026 तक पूरे देश में 20 प्रतिशत एथेनॉल मिश्रित पेट्रोल को लॉन्च किया जाएगा. बता दें कि, सबसे पहले पूरी दुनिया में ब्राजील ही ऐसा देश है जिसने पेट्रोल-डीजल की जगह ईंधन के रूप में एथेनॉल का इस्तेमाल किया था. वहीं, आज तेल के मामले में ब्राजील सेल्फ डिपेंड हो गया है.