Daesh News

दिल्ली CM केजरीवाल की गिरफ्तारी की आशंका, AAP मुख्यालय पहुंचने लगे कार्यकर्ता

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आज ED (प्रवर्तन निदेशालय) गिरफ्तार कर सकती है. यह दावा खुद आम आदमी पार्टी ने किया है. सीएम केजरीवाल की गिरफ्तारी की आशंका को देखते हुए गुरुवार सुबह से ही AAP मुख्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं के जुटने का क्रम शुरू हो गया है.

बता दें कि शराब घोटाले में ED केजरीवाल को तीन समन जारी कर चुकी है, लेकिन अब तक दिल्ली के सीएम ईडी के सामने पेश नहीं हुए हैं. हालांकि, तीनों बार केजरीवाल ने ईडी को लिखित जवाब भेजा है और जांच में सहयोग करने की बात कही है.

AAP नेताओं ने दावा किया है कि ईडी आज अरविंद केजरीवाल के आवास पर रेड मार सकती है और उनकी गिरफ्तारी भी कर सकती है. दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी, सौरभ भारद्वाज और राज्यसभा सांसद संदीप पाठक ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर दावा किया है कि अरविंद केजरीवाल के घर आज ईडी की छापेमारी हो सकती है, जिसके बाद उन्हें अरेस्ट किया जा सकता है.

आतिशी ने कहा कि उन्हें विश्वस्त सूत्रों से खबर मिली है कि आज अरविंद केजरीवाल के घर पर रेड होगी और उन्हें गिरफ्तार भी किया जाएगा. ये बिल्कुल साफ है कि समन भेजने की टाइमिंग और उन्हें गिरफ्तार करने का प्लान बनाया गया है, ये सिर्फ और सिर्फ लोकसभा चुनाव से जुड़ा हुआ है. इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी का कहना है कि जांच एजेंसी का नोटिस गैर कानूनी है.

आतिशी ने आगे कहा कि एक ऐसा केस, जिसमें एक साल से जांच चल रही है. इसमें आजतक कोई एक रुपया कैश, सोना, चांदी और किसी भी तरह की प्रॉपर्टी के कागज बरामद नहीं हुए. उसमें ऐसी क्या हड़बड़ी आ गई कि तीन हफ्ते में तीन बार समन भेज दिए.

आतिशी ने कहा कि केजरीवाल हर सवाल का जवाब देने को तैयार हैं, लेकिन ईडी को बताना चाहिए कि उन्हें किसलिए बुला रही है. विटनेस, आरोपी, दिल्ली सीएम या आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक के तौर पर बुला रही है और इस टाइमिंग से सवाल तो उठता ही है कि लोकसभा चुनाव से तुंरत पहले इस तरह की हड़बड़ी क्यों है. दूसरी बात अगर ऐसा सवाल पूछना है ईडी को तो वो लिखकर सवाल पूछ ले, केजरीवाल उसके जवाब दे देंगे. ऐसा क्या सवाल है कि वो लिखकर नहीं पूछ सकते, बुलाकर ही पूछना है.

AAP के इन आरोपों पर बीजेपी ने भी पटलवार किया है. भाजपा प्रवक्ता हरीश खुराना ने कहा है कि आतिशी या AAP के दूसरे नेताओं को मनोहर कहानियां गढ़ने में बहुत मजा आता है. आपके लिए विपश्यना महत्वपूर्ण हैं, कानून नहीं. एमपी चुनाव महत्वपूर्ण हैं, कानून नहीं. अरविंद केजरीवाल अपने आपको कानून से ऊपर मानते हैं.