Daesh News

छतीसगढ़ के बाद अब मध्य प्रदेश और राजस्थान की बारी, कौन बनेंगे मुख्यमंत्री, सस्पेंस बरकरार

देश के पांच राज्यों में पिछले दिनों विधानसभा चुनाव हुए. जिसमें से तीन राज्यों में बीजेपी ने प्रचंड जीत हासिल की. चुनाव के दौरान बीजेपी की ओर से इन तीनों राज्यों में मुख्यमंत्री के चेहरे का एलान नहीं किया गया था. जिसके कारण लगातार सीएम फेस पर सस्पेंस बरकरार रहा. हर किसी के पास यही सवाल था कि, आखिर इन तीनों राज्यों में मुख्यमंत्री कौन बनेंगे. लेकिन, पिछले दिनों हुए कुछ बैठकों और मंथन के बाद 10 दिसंबर को छत्तीसगढ़ के सीएम के फेस पर मुहर लगी. छत्तीसगढ़ के सीएम के रूप में विष्णुदेव साय के नाम की घोषणा कर दी गयी. लेकिन, अभी भी अन्य दो राज्यों में सस्पेंस बरकरार है.

11 दिसंबर को आ सकता है फैसला 

दरअसल, राजस्थान और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को लेकर नाम अब तक क्लियर नहीं हो पाया है. यहां सीएम तय करने के लिए विचार-विमर्श का दौर पूरे दिन जारी रहा, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका. हालांकि, बताया जा रहा है कि दोनों ही राज्यों के मुखिया के चयन के लिए विचार-विमर्श अंतिम चरण में पहुंच चुका है और आज यानि कि 11 दिसंबर को सीएम के नाम की घोषणा हो सकती है. रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों राज्यों के लिए नियुक्त किए गए केंद्रीय पर्यवेक्षक आज दोनों राज्यों में पहुंचेंगे.

सीएम के लिए कोई नया चेहरा हो सकते हैं 

बात कर लें राजस्थान की तो, राजस्थान में बीजेपी की ओर से नियुक्त पर्यवेक्षकों (राजनाथ सिंह, विनोद तावड़े और सरोज पांडे) ने दौरा किया, लेकिन यहां अभी तक मुख्यमंत्री पद पर किसी भी नाम का ऐलान नहीं किया गया है. हालांकि, चर्चा है कि पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व इस पद के लिए इस बार नया चेहरा चुन सकता है. यहां भाजपा ने अभी तक मुख्यमंत्री चुनने के लिए विधायक दल की बैठक की घोषणा नहीं की है.

मध्य प्रदेश में भी होगी बैठक 

वहीं, बात कर लें मध्य प्रदेश की तो, मध्य प्रदेश में विधायक दल का नेता चुनने के लिए नवनिर्वाचित विधायक 11 दिसंबर को बैठक करेंगे. राज्य के नेताओं के मुताबिक, बैठक शाम को हो सकती है, बैठक से पहले बीजेपी अपने विधायकों को दोपहर के भोजन के लिए आमंत्रित करेगी. शाम को होने वाली बैठक में पर्यवेक्षक हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, ओबीसी मोर्चा के प्रमुख के. लक्ष्मण और सचिव आशा लाकड़ा भी शामिल होंगी. यहां सीएम की रेस में शिवराज सिंह चौहान, प्रहलाद पटेल, नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम की चर्चा है.