Daesh News

अक्षरा सिंह इस शख्स को अपनी लाईफ में मानती हैं बेहद खास, देती हैं खास तवज्जो

अक्षरा सिंह भोजपुरी सिनेमा की सबसे मशहूर और हिट एक्ट्रेस में शामिल हैं. अपनी दिलकश अदाओं की छाप अक्षरा सिंह ने ना जाने कितने फैंस के ऊपर छोड़ा है. फिल्मों में अपनी दमदार एक्टिंग के साथ ही वह सोशल मीडिया पर भी काफी चर्चित हैं. अक्षरा की तस्वीरें और वीडियोज सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं. कुल मिलाकर देखा जाए तो भोजपुरी इंडस्ट्री में अक्षरा सिंह को ना सिर्फ बेहतरीन एक्ट्रेस के तौर पर देखा जाता है, जबकि वह एक सिंगर और शानदार डांसर भी हैं. स्टेज शो में उनके सिगिंग और डांसिंग टैलेंट को काफी पसंद किया जाता है. फिल्मों के अलावा अक्षरा ने अब तक कई म्यूजिक वीडियोज में अपनी आवाज दी है, जो काफी हिट रही हैं. वहीं, अब तक अक्षरा सिंह ने जो ख्याति पाई उसका क्रेडिट अक्षरा सिंह एक खास शख्स को देती हैं और वह खास शख्स कोई और नहीं बल्कि अक्षरा सिंह के पिता बिपिन सिंह हैं. वैसे तो भोजपुरी सिनेमा में अक्षरा के एंट्री के पीछे उनके माता-पिता दोनों का अहम योगदान माना जाता है. लेकिन, यह भी कई बार कहा जाता है कि, अक्षरा सिंह का उनके पिता से ज्यादा लगाव है.

पिता के साथ रहा है गहरा नाता

दरअसल, अक्षरा सिंह का उनके पिता के साथ जुड़ा एक किस्सा काफी सुर्खियों में रहा है. क्या कुछ पूरा वाकया है हम आपको विस्तार से बताते हैं. आम इंसान हो या फिर कोई सेलिब्रिटी अक्सर लोगों के वह प्यार नहीं मिल पाता है जिसकी उन्हें उम्मीद होती है और फिर उनका दिल टूट जाता है. हालांकि फिर वे धीरे-धीरे खुद को संभालते हैं और करियर में आगे बढ़ते हैं. इसमें भोजपुरी अभिनेत्री अक्षरा सिंह का नाम भी शामिल है. अक्षरा ने भोजपुरी सिनेमा में खूब नाम कमाया है. उनकी फैन फालोइंग काफी ज्यादा है. इसी वजह से उन्हें बिग बॉस ओटीटी में भी हिस्सा लेने का मौका मिला था. इस दौरान अक्षरा ने अपने निजी जीवन को लेकर खुलासे किए थे. अक्षरा ने बताया था कि, कैसे ब्रेकअप के बाद वह डिप्रेशन में चली गई थीं और पिता की नसीहत से वह रास्ते पर आईं थी.

पिता की नसीहत आई काम 

अक्षरा का नाम अभिनेता पवन सिंह से जुड़ा था. हालांकि बाद में दोनों का ब्रेकअप हो गया था. एक इंटरव्यू के दौरान अक्षरा ने बताया था कि, जब वह इन सारा बातों से टूट चुकी थीं तो उनके पिता की बातें उनके लिए मददगार साबित हुईं थी. एक इंटरव्यू में अक्षरा सिंह ने कहा कि, 'जिस समय मैं डिप्रेशन के दौर से गुजर रही थी ऐसा लग रहा था कि वापस आने के सारे रास्ते बंद हो चुके हैं. मेरे पास मरने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है. उस वक्त मेरे पिता ने मुझे बुलाया और पूछा कि, तुम्हें किस बात का डर है और तुम क्या करना चाहती हो? अक्षरा ने अपने पिता से कहा कि, वह कुछ नहीं करना चाहती हैं. तब उनके पिता ने कहा कि, 'तुम्हारा बाप बनकर तुमसे कह रहा हूं कि या तो तुम जाओ, फांसी लगा लो और मर जाओ. आत्महत्या करो अभी या फिर लड़ो. तुम्हारे पास दो रास्ते हैं जो करना है करो. मैं एक बाप होने के नाते संतुष्ट हो जाऊंगा कि मेरी बेटी को मरना था वह मर गई'.

अब राजनीति में आजमा रही हैं भाग्य

इंटरव्यू के दौरान अक्षरा ने कहा कि, 'यह बात मुझे तमाचे की तरह लगी थी. उसी दिन मैंने सोच लिया कि अब मैं पीछे मुड़कर नहीं देखूंगी'. और हुआ भी कुछ ऐसा ही. आज अक्षरा सिंह भोजपुरी इंडस्ट्री की बड़े ही फेमस, बिंदास, निडर, बेबाक और शानदार एक्ट्रेस मानी जाती हैं. बता दें कि, भोजपुरी सिनेमा में अक्षरा सिंह ने अपना एक्टिंग डेब्यू साल 2010 में फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ से किया था. इस फिल्म में उनके अपोजिट रवि किशन नजर आए थे. वही अक्षरा सिंह आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है. अब तो अक्षरा सिंह राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पार्टी जनसुराज से भी जुड़ चुकी हैं. भोजपुरी में तो अक्षरा सिंह ने खूब नाम और शोहरत पाई. अब बारी राजनीति की है.