Daesh News

UNGA में भारत ने टेररिज्म के खिलाफ भरी हुंकार, विदेश मंत्री बोले- आतंकवाद राजनीतिक एजेंडा तय नहीं कर सकता

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल के बाद दुनिया के सामने बड़ी चुनौतियां हैं. उन्होंने यह भी कहा कि विकासशील देशों पर सबसे अधिक दवाब है. विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा, “भारत की ओर से नमस्ते!…विश्वास के पुनर्निर्माण और वैश्विक एकजुटता को फिर से जगाने के इस यूएनजीए के विषय को हमारा पूरा समर्थन है. यह हमारी आकांक्षाओं को साझा करते हुए हमारी उपलब्धियों और चुनौतियों का जायजा लेने का एक अवसर और लक्ष्य है. वास्तव में, दोनों के संबंध में, भारत के पास साझा करने के लिए बहुत कुछ है…”

उन्होंने कहा, “दुनिया उथल-पुथल के एक अपवाद दौर को देख रही है… इस मोड़ पर, असाधारण जिम्मेदारी की भावना के साथ भारत ने जी20 की अध्यक्षता संभाली. ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ के हमारे दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश की गई क्योंकि बहुतों की प्रमुख चिंताएं केवल कुछ लोगों के संकीर्ण हित हैं…”

यूएनजीए में विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने आगे कहा, “यह मानते हुए कि वृद्धि और विकास को सबसे कमजोर लोगों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, हमने वॉयस ऑफ द ग्लोबल साउथ समिट बुलाकर अध्यक्षता शुरू की. इससे हमें 125 देशों को सीधे सुनने और उनकी चिंताओं को जी20 एजेंडा में रखने में सक्षम बनाया गया. परिणामस्वरूप, वैश्विक स्तर पर ध्यान आकर्षित करने वाले मुद्दों पर निष्पक्ष सुनवाई हुई. इससे भी अधिक, विचार-विमर्श से ऐसे परिणाम निकले जिनका अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए बहुत महत्व है.”

विदेश मंत्री ने जी20 का हवाला देकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में सुधार की वकालत भी की. उन्होंने कहा, “यह भी उल्लेखनीय था कि भारत की पहल पर अफ्रीकी संघ को जी20 का स्थायी सदस्य बनाया गया. ऐसा करके, हमने पूरे महाद्वीप को आवाज दी, जिसका लंबे समय से इसपर हक रहा है. जी20 में सुधार का यह महत्वपूर्ण कदम संयुक्त राष्ट्र, जो कि एक बहुत पुराना संगठन है, को भी सुरक्षा परिषद को समय के मुताबिक बनाने के लिए प्रेरित करेगा.”