Daesh News

आम आदमी राम मंदिर में कब से कर पाएगा दर्शन, क्या लगेगा कोई शुल्क? जानें हर सवाल का जवाब

अयोध्या के नए राम मंदिर में 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा होनी है. इस समारोह में पीएम मोदी समेत देश-दुनिया के तमाम गणमान्य लोग मौजूद रहेंगे. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मुताबिक प्राण प्रतिष्ठा के बाद राम मंदिर, आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा. राम मंदिर में आम आदमी कब से दर्शन कर पाएगा? क्या कोई शुल्क देना होगा? आरती का समय क्या है? आइये आपको राम मंदिर से जुड़े ऐसे तमाम सवालों के जवाब बताते हैं…

सवाल: कौन संभालेगा मंदिर?

जवाब: राम मंदिर का प्रबंधन श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कर रहा है. इस ट्रस्ट की स्थापना सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद केंद्र सरकार ने की थी. ट्रस्ट ही मंदिर निर्माण की निगरानी भी कर रहा है. देश की नामी कंस्ट्रक्शन कंपनी लॉर्सम एंड टुब्रो मंदिर निर्माण में लगी है.

सवाल: आम आदमी कब से कर सकेगा दर्शन?

जवाब: 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा के बाद अगले दिन यानी 23 जनवरी से आम श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर सकेंगे. ट्रस्ट के मुताबिक 22 जनवरी को आम श्रद्धालुओं के दर्शन की व्यवस्था नहीं है. अगले दिन से कपाट, उनके लिए खुलेंगे.

सवाल: कब से कब तक खुला रहेगा मंदिर?

जवाब: अयोध्या में राम मंदिर सुबह 7:00 बजे से दोपहर 11:30 बजे तक और इसके बाद 2:00 बजे से 7:00 बजे तक आम श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खुला रहेगा. दोपहर में करीब ढाई घंटे भोग व विश्राम के लिए मंदिर बंद रहेगा.

सवाल: क्या है राम मंदिर में आरती की टाइमिंग?

जवाब: राम मंदिर में रामलला की दिन में तीन बार आरती होती है. पहला- सुबह 6:30 बजे, जिसे जागरण या श्रृंगार आरती कहते हैं. दूसरा- दोपहर 12:00 बजे जिसे भोग आरती कहते हैं और तीसरा शाम को 7:30 बजे जिसे संध्या आरती कहते हैं.

सवाल: राम मंदिर आरती में कैसे शामिल हो सकते हैं?

जवाब: अयोध्या के राम मंदिर में आरती में शामिल होने के लिए श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट से पास लिया जा सकता है. पास के लिए वैध पहचान पत्र (आईडी प्रूफ) होना जरूरी है. ट्रस्ट के मुताबिक एक बार में सिर्फ 30 लोग ही आरती में शामिल हो सकेंगे.

सवाल: क्या दर्शन के लिए कोई शुल्क देना होगा?

जवाब: अयोध्या के राम मंदिर में दर्शन निशुल्क है. रामलला के दर्शन के लिए किसी भी तरह का कोई शुल्क नहीं देना होगा. दिन में तीन बार आरती होती है, इसके लिए पास जरूर लेना पड़ेगा. जिनके पास पास होगा उन्हीं को आरती में शामिल होने की इजाजत मिलेगी.

सवाल: कैसे जा सकते हैं अयोध्या?

जवाब: आप रेल, बस अथवा और हवाई मार्ग से अयोध्या जा सकते हैं. अयोध्या रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी सिर्फ 5 किलोमीटर है. वहां से ऑटो रिक्शा या ई-रिक्शा वगैरह के जरिए मंदिर पहुंचा जा सकता है. इसी तरह अयोध्या के महर्षि वाल्मीकि हवाई अड्डे से मंदिर की दूरी करीब 17 किमी है. लखनऊ हवाई अड्डे से सड़क मार्ग के जरिये भी अयोध्या जा सकते हैं. दूरी करीब 160 किमी है.

सवाल: राम मंदिर निर्माण पर कितना पैसा खर्च?

जवाब: राम मंदिर निर्माण का कामकाज देख रहे श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मंदिर निर्माण पर करीब 1800 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान लगाया था. जिसमें मैटेरियल कॉस्ट से लेकर मशीनरी, लेबर के खर्चे वगैरह शामिल हैं.

सवाल: कब पूरी तरह बनकर तैयार होगा मंदिर?

जवाब: नागर शैली में बन रहे तीन मंजिला राम मंदिर का निर्माण कार्य इस साल दिसंबर तक पूरा हो जाएगा. मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष और पूर्व नौकरशाह नृपेंद्र मिश्र के मुताबिक मंदिर निर्माण लगभग आखिरी चरण में पहुंच चुका है. मिशन मोड में काम चल रहा है.

सवाल: राम मंदिर में और किसकी प्रतिमा?

जवाब: अयोध्या के नए राम मंदिर में चार कोनों पर चार और देवताओं के मंदिर हैं. जिसमें भगवान शिव, भगवान सूर्य, मां भगवती और भगवान गणेश. इसके अलावा अन्नपूर्णा माता और हनुमान जी का भी मंदिर है.