Daesh News

BIG BREAKING : संसद की सुरक्षा में बड़ी चूक, लोकसभा की कार्यवाही के दौरान सदन में घुसे 2 लोग, कुछ भी हो सकता था

इस वक्त की बड़ी खबर राजधानी दिल्ली से सामने आ रही है जहां संसद की सुरक्षा में बड़ी चूक हो गयी. दरअसल, लोकसभा की कार्यवाही चल रही थी लेकिन अचानक इसी दौरान 2 युवक सदन में कूद पड़े. जिसके बाद कार्यवाही के दौरान सदन में अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया. हर कोई अपनी-अपनी सीट छोड़कर इधर-उधर भागने लगे. बता दें कि, ये दोनों शख्स दर्शक दीर्घा से कूदे थे. कार्यवाही में मौजूद सांसदों के मुताबिक, दोनों युवकों के हाथ में टियर गैस कनस्तर था. हालांकि, इन्हें सांसदों ने पकड़ लिया और सुरक्षाकर्मियों के हवाले कर दिया. कहा जा रहा कि, इस दौरान कोई भी बड़ी घटना हो सकती है.

सदन की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित 

बता दें कि, इस दौरान इस घटना को लेकर लोकसभा की कार्यवाही को 2 बजे तक स्थगित कर दिया गया. वहीं बताया जा रहा है कि, जो दो लोग कार्यवाही के दौरान घुसे, उनमें एक का नाम सागर है. दोनों सांसद के नाम पर लोकसभा विजिटर पास पर आए थे. सांसद दानिश अली की माने तो, दोनों लोग मैसूर से बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा के नाम पर लोकसभा विजिटर पास से आए थे. इस मामले को लेकर कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि, जब शून्यकाल चल रहा था, दो युवक दर्शक गैलरी से कूदे और उनके द्वारा कुछ फेंका गया, जिससे गैस निकल रही थी. उन्हें सांसदों ने पकड़ लिया, सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बाहर निकाला. सदन दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया. यह निश्चित रूप से एक सुरक्षा उल्लंघन है क्योंकि आज हम उन लोगों की पुण्य तिथि मना रहे हैं, जिन्होंने 2001 में अपने प्राणों की आहुति दी थी.  

संसद पर आतंकी हमले की 22वीं बरसी

बताया यह भी जा रहा है कि, प्रदर्शनकारियों में एक महिला और एक पुरुष थे. पुलिस दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. वहीं, खास बात ये है कि आज ही संसद पर आतंकी हमले की 22वीं बरसी है. 21 साल पहले आतंकियों ने आज ही पुराने संसद भवन पर आतंकी हमला किया था. वहीं, कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने कहा कि, अचानक करीब 20 साल के दो युवक दर्शक दीर्घा से सदन में कूद पड़े और उनके हाथ में कनस्तर थे. इन कनस्तर से पीला धुआं निकल रहा था. उनमें से एक अध्यक्ष की कुर्सी की ओर भागने का प्रयास कर रहा था. वे कुछ नारे लगा रहे थे. धुआं जहरीला हो सकता था. यह सुरक्षा का गंभीर उल्लंघन है.