Daesh News

Bihar Crime: शूटआउट जोन बना सीएम नीतीश का बिहार, पटना से लेकर सहरसा तक ठांय-ठांय...

बिहार में अपराधियों में लगता है कि कानून का इकबाल और पुलिस का खौफ खत्म हो गया है. तभी तो बिहार की राजधानी पटना समेत बांका, लखीसराय से लेकर सहरसा तक अपराधियों ने क्राइम को अंजाम देकर सन्नाटा फैला दिया है. अपराधी पुलिस प्रशासन को खुली चुनौती देते दिखाई दे रहे हैं. बिहार के समस्तीपुर जिला तो शूटआउट जोन बना हुआ है, यहां अवैध हथियारों से घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. एक महीने में 6 मर्डर हो चुके हैं. दरअसल, जिस तरह से बिहार के अलग-अलग हिस्सों में अपराध हो रहे हैं, उससे लगता है कि प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से पटरी से उतर गई है. आइए इस वीडियो में जानते हैं कि कहां-कहां अपराधिक घटनाएं हुई. 

पटना में चली गोली, 2 की मौत

पटना सिटी के आलमगंज थाना क्षेत्र के अलग-अलग इलाके में एक ही रात में तीन जगहों पर गोली चलने से तीन लोग घायल और दो लोगों की मौत होने से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई. वहीं, सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस की टीम ने सभी हत्याओं की जांच की. इस तीन घटना को लेकर पुलिस की नीद उड़ गई है. पुलिस ने बताया कि पहला मामला बड़ी पटनदेवी कालोनी के पास का है. जहां दो शराब माफिया के बीच सीमा विवाद में गोलीबारी होने पर दो अन्य व्यक्ति गोली से घायल हो गए. जिसमें एक व्यक्ति की घटना स्थल पर मौत हो गई. जबकि, दूसरा घायल हो गया, जिसे इलाज के लिए PMCH और NMCH भेजा गया. दूसरी हरी बाबू की गली में दो गुटों में गोलीबारी हुई. जिसमें दो लोग घायल हुए और एक की मौत हो गई. तीसरा मामला मालिया महादेव के लल्ला रोड के पास का है, जहां जहां अपराधियों ने एक व्यक्ति की गोली मार कर हत्या कर दी. 

पटना में 19 अपराधी गिरफ्तार

पटना राजधानी के नौबतपुर थाना क्षेत्र से पुलिस ने 19 अपराधियों को पिस्तौल देसी कट्टा और बड़े पैमाने पर जिंदा कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है. पुलिस ने बताया कि ये अपराधी अजवां गांव के पास अवैध तरीके से जमीन कब्जा करने आए थे. पुलिस को इसकी सूचना मिली जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और छापेमारी करते हुए 19 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. हालांकि कुछ लोग भाग ने में कामयाब हो गए. जिसकी पुलिस ने खोजबीन शुरू कर दी है. इन सभी अपराधियों की गिरफ्तारी नौबतपुर थानाध्यक्ष प्रशांत कुमार भारद्वाज की टीम के द्वारा किया गया है.  इस मामले को लेकर सिटी एसपी सेंट्रल वैभव शर्मा ने बताया कि मामले में पुलिस ने आरोपियों के पास से दो पिस्टल, एक देसी कट्टा, 11 जिंदा करतूत, एक स्कॉर्पियो, एक बाइक और 19 मोबाइल बरामद किया है। सभी आरोपियों से पूछताछ की जा रही है.

बांका में युवक की गोली मारकर हत्या

बांका में देर शाम किसी से मिलने को लेकर घर से निकले युवक की अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या करने का मामला सामने आया है.  घटना बांका टाउन थाना क्षेत्र के भसौना बांध के समीप की है. घटना के बारे में बताया जा रहा है कि मृतक सुमन कुमार चौधरी किसी एक युवती के साथ कटोरिया की ओर से बांका की ओर आ रहा था. इसी बीच विपरीत दिशा से आ रही बाइक सवार दो युवकों ने बाइक रोककर गोली मारकर युवती के साथ फरार होने की बात कही जा रही है. अब तक हत्यारे और मृतक के साथ जो लड़की थी उसकी पहचान नहीं हो सकी है. 

मृतक बांका के जगतपुर मुहल्ला का रहने वाला बताया जा रहा है. घटना की जानकारी मिलते ही सैकड़ों लोग बांका सदर अस्पताल में जुट गए. वहीं, बांका पुलिस भी अस्पताल में मौजूद है और परिजनों से घटना की जानकारी ले रही है. घटना के बाबत मृतक के चाचा लालू चौधरी ने बताया कि शाम को निकलने के कुछ देर बाद ही हत्या की खबर मिलने की बात कह रहे हैं.

लखीसराय में शराब के लिए चाकूबाजी

लखीसराय में शराब बेचने की सूचना देना एक व्यक्ति को महंगा पड़ गया. बदमाशों ने चाकू से हमला कर दिया. जिससे गंभीर रूप से जख्मी हो गया. जिसका इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है. पूरा मामला किउल थाना क्षेत्र अंतर्गत दुर्गा स्थान के समीप की है. जहां अवैध शराब कारोबारी ने शराब की मुखबरी करने को लेकर एक व्यक्ति को चाकूमार कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया, जिसकी पहचान स्वर्गीय परमेश्वर मंडल के 50वर्षीय पुत्र शशि मंडल के रूप में हुई है. घायल शशि मंडल ने बताया कि शराब को लेकर प्रशासन की मदद करने का यह परिणाम है. 

उन्होंने बताया कि उनका दोष इतना ही है उन्होंने शराबबंदी वाले राज्य बिहार में अवैध शराब बेचने की सूचना अक्सर प्रशासन को देने का काम करते थे. जिससे नाराज शराब माफिया अंधेरा का फायदा उठाकर चाकू मारकर घायल कर दिया. 

अपराध से सहमा सहरसा 

सहरसा के सौरबाजार थाना क्षेत्र में वाहन जांच के दौरान पुलिस ने दो शातिर अपराधियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इन अपराधियों के पास से एक देशी पिस्टल, चार कारतूस, दो मैगजीन भी बरामद किया है. गिरफ्तार अपराधियों में पप्पू कुमार और शुशील कुमार शामिल है जो मधेपुरा जिले के घैलाढ़ थाना क्षेत्र का रहने वाला है. अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर एसपी उपेन्द्रनाथ वर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि जिले के सभी थानों को वाहन जांच का निर्देश दिया गया था. इसी कड़ी में सौरबाजार थाना क्षेत्र के समदा के पास पुलिस की टीम वाहन जांच कर रही थी. 

इस दौरान संदिग्ध लगने पर एक कार को रोका गया तो उसमें सवार अपराधी पुलिस से उलझ गए और हाथापाई करने लगे जिसके बाद पुलिस ने दो अपराधियों को पकड़ लिया. तलासी के दौरान दोनों के पास से एक देसी पिस्टल, चार कारतूस, दो मैगजीन बरामद किए गए. जबकि कार चालक कार लेकर फरार हो गया. गिरफ्तार अपराधियों में पप्पू कुमार का जब आपराधिक इतिहास खंगाला गया तो इनपर सहरसा और सुपौल जिले के विभिन्न थानों कुल 14 कांड दर्ज पाए गए. दोनों अपराधियों को न्याययिक हिरासत में भेज दिया गया है.

इधर सीतामढ़ी में  दो बड़ी घटनाओं ने सनसनी फैला दी. सीतामढ़ी मेंकॉलेज के अंदर घुसकर प्रोफेसर की हत्या गोली मारकर कर दी गयी. एसआरके गोयनका कॉलेज के साइंस ब्लॉक के फिजिक्स विभाग में घुसकर विभागाध्यक्ष व कॉलेज के बर्सर प्रो डॉ रवि पाठक को गोली मारी गयी. बदमाशों की एक टोली ने योजनाबद्ध तरीके से  प्रो रवि पाठक को गोली मारी है. उसमें कॉलेज का एक कर्मचारी भी पुलिस के रडॉर पर है. पुलिस सूत्रों पर भरोसा करें तो पुलिसिया जांच में यह सामने आ रहा है.

पटना-भोजपुर सीमा सेसटे बिहटा थाना क्षेत्र के सोन नदी के बालूघाटों पर अवैध बालू खनन को लेकर बालू माफियाओं का खूनी संघर्ष रुकने का नाम नहीं ले रहा है. सोमवार की देर रात बिहटा थाने के पथलौटिया बालूघाट पर माफियाओं के बीच अचानक गोलीबारी से पूरा इलाका गूंज उठा. इस दौरान बालू माफियाओं के बीच दोनों तरफ से आधुनिक हथियार से करीब सैकड़ों राउंड फायरिंग की गयी. हालांकि, इसमें किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है. वहीं, बालू माफियाओं ने अवैध खनन में लगी चार पोकलेन मशीन को आग के हवाले कर दिया. घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया. घटनास्थल पर पहुंची बिहटा पुलिस ने

मौके से कई खोखे बरामद किये. एसटीएफ समेत कई थानों की पुलिस के साथ बिहटा, भोजपुर, छपरा के बालूघाटों तक कई घंटों तक छापेमारी की. हालांकि पुलिस को देखतेही सभी बालूमाफिया नदी के रास्ते से फरार हो गये.

इधर समस्तीपुर जिला शूटआउट जोन बनता जा रहा है. आए दिन गोलीबारी, हत्या व लूट की घटनाओं से लोग सहमे नजर आ रहे हैं. बीते एक माह के अंतराल में जिले में छह हत्याएं, दो लूट और आधा दर्जन गोलीबारी की घटनाएं हुईं. इसके अलावा छिनतई, चोरी व अन्य आपराधिक घटनाएं औसतन हर दिन हो रही. पिछले दो दिनों में अपराधियों ने लूटपाट के दौरान कर्पूरीग्राम थाना क्षेत्र के सिंघिया खुर्द में कपड़ा दुकानदार और मुसरीघरारी के रुपौली बुजुर्ग एक चाय दुकानदार को गोली मारकर जख्मी कर दिया.

जिले में अवैध हथियारों की भरमार है. हर हाथ में कट्टे व पिस्टल मौजूद है, जो सहजता से युवकों तक पहुंच रहे हैं. यह अवैध हथियार जिले में कानून व्यवस्था के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं. यह अवैध हथियार कहां से आता है. इसका जवाब पुलिस आज तक नहीं ढूंढ पाई है. बिहार में अपराधी बेखौफ होकर अपराध की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. सूबे के कई जिलों में अपराधियों ने दिनदहाड़े ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया है जो पुलिस प्रशासन के लिए एक चुनौती है. बदमाशों ने गोली मारकर कई लोगों को मौत के घाट उतारा और आसानी से फरार हो गए. कहीं अपहरण तो कहीं छेड़खानी का विरोध करने पर छात्रा को

गोली मारी गयी. लेकिन सवाल आखिर कब तक इस तरह की घटनाओं को अंजाम दिया जाता रहेगा. एक बड़ा सवाल बन कर रह गया है बिहार की नीतीश सरकार के लिए....