Daesh News

पटना के यूथ हॉस्टल में बिहार नियोजित शिक्षकों की बैठक खत्म, सरकार के इन नियमों को नहीं मानेंगे

पटना में यूथ हॉस्टल में टीईटी शिक्षक संघ की ओर से बिहार विद्यालय विशिष्ट शिक्षक नियमावली 2023 को लेकर बैठक की गई. बैठक में बिहार के कई जिलों से नियोजित शिक्षक पहुंचे थे. बैठक समाप्त होने के बाद टीईटी शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अमित विक्रम ने बयान देते हुए कहा आज की बैठक में हमने सामूहिक रूप से निर्णय लिया है कि सरकार जो अलग-अलग नियमावली बना रही है. 

बीपीएससी पास शिक्षकों के लिए और नियोजित शिक्षकों के लिए ये हमे स्वीकार नहीं है. हम लोगों ने परीक्षा का समर्थन करने का निर्णय लिया है लेकिन परीक्षा का समर्थन इसी शर्त पर है की हमें बीपीएससी शिक्षकों के समान एक ही नियमावली में समाहित किया जाए.

शिक्षकों को बांटने की नीति जो सरकार अपना रही है हम लोग उसके खिलाफ है. अमित विक्रम ने कहा जो पे स्केल सरकार बीपीएससी शिक्षकों को और राज्यकर्मियों को देने जा रही है. वो भी किसी राज्य कर्मी को नहीं मिलता है. राज्य कर्मी में शिक्षकों का पे स्केल पहले से तय है. वो है लेवल 7,8 और 9 का पे स्केल. हमारे संघ की मांग है कि एक विद्यालय में एक संवर्ग हो, एक पे स्केल हो और अनुशासनिक कार्रवाई का भी एक ही प्रावधान हो. 

नियमावली आने के बाद हम लोग कोर्ट में भी लड़ाई लड़ेंगे और सड़क पर लड़ाई लड़ेंगे. जिन सभी संघों के साथ हमने शिक्षक मोर्चा बना कर लड़ाई लड़ने की शुरुआत की थी वह लड़ाई भी हमारी जारी रहेगी. क्योंकि जो हमारी लड़ाई का मूल्य उद्देश्य था सरकार ने उससे ध्यान भटकाने के लिए एक मैन्युफैक्चरर नियमावली बनाई.

अमित विक्रम ने कहा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के बैनर तले 16 संगठनों ने इसी जगह से लड़ाई का आह्वान किया था हम लोग बस नियमावली आने का इंतजार कर रहे हैं. हमारे संघ की राय बनी है कि उसी मोर्चे के बैनर तले जब तक हमारी मांग पूरी नहीं हो जाती है इस नियमावली के खिलाफ हमारा संघर्ष जारी रहेगा. आने वाले समय में हम लोग विशाल प्रदर्शन भी करेंगे.