Daesh News

Bihar Police: बिहार पुलिस सिपाही भर्ती की परीक्षा रद्द, 7 और 15 अक्टूबर वाले एग्जाम को लेकर जानें लेटेस्ट अपडेट

एक साल पहले बीपीएससी परीक्षा पेपर लीक घटना हुई थी. जिसके कारण देश भर बिहार सरकार की जमकर आलोचना हुई थी. अब एक बार फिर से वैसी ही घटना की पुनरावृत्ति हो गई है. बीते दिनों बिहार में हुए सिपाही भर्ती परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया गया  है. बताया जा रहा है कि परीक्षा के दौरान जिस तरह से बड़ी संख्या में सॉल्वर पकड़े गए थे. उसके बाद इस परीक्षा के कदाचार मुक्त होने को लेकर लगातार सवाल उठ रहे थे. ऐसे में अब केंदीय चयन परिषद ने परीक्षा को ही कैंसिल कर दिया गया है. अब इस पूरे मामले की जांच ईओयू को सौंप दी गई है. परीक्षा रद्द होने का नोटिफिकेसन भी केंद्रीय चयन परिषद ने जारी कर दिया गया है.

नहीं होगी 7 और 15 अक्टूबर की परीक्षा

केंद्रीय चयन परिषद ने न सिर्फ एक अक्टूबर को होनेवाली परीक्षा को रद्द किया है. बल्कि आगामी सात अक्टूबर और 15 अक्टूबर को होनेवाली परीक्षा भी स्थगित कर दी गई है. सभी पालियों (प्रथम से षष्टम् पाली तक) की लिखित परीक्षाओं की नई तिथि एवं समय के संबंध में अलग से सूचना पर्षद की बेवसाईट www.csbc.bih.nic.in एवं समाचार पत्रों के माध्यम से दी जाएगी.

बता दें कि 01.10.2023 (रविवार) को उक्त दोनों पालियों की लिखित परीक्षा में काफी संख्या में नकल करते हुए Electronic devices एवं चीट पूर्जो के साथ राज्य के विभिन्न जिलों में अभ्यर्थी गिरफ्तार हुए. इसके अतिरिक्त अन्य स्रोतो से भी ऐसी जानकारी प्राप्त हुई कि परीक्षा के प्रश्नों के तथाकथित उत्तर सादे पन्नों पर मात्र SI No. के सामने उत्तर लिखकर मोबाईल एवं अन्य तरीकों से कतिपय अभ्यर्थियों द्वारा प्राप्त कर लिये गये हैं. विभिन्न परीक्षा केन्द्रों में काफी संख्या में अभ्यर्थियों द्वारा इन उत्तरों की नकल करते हुए और चीट पूर्जा के साथ पकड़े गये इन सभी अभ्यार्थियों के विरुद्ध कांड दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है. 

केंद्रीय चयन परिषद अध्यक्ष एसके सिंघल

वर्तमान में ये सभी मामले अनुसंधान अंतर्गत है, लेकिन दिनांक 02.10.2023 के अपराह्न उपरांत ऐसे मामलों के संबंध में और अधिक जानकारियाँ प्राप्त हुई. इन जानकारियों के विश्लेषण उपरांत पाया गया कि इस प्रकार के क्रियाकलाप प्रथम दृष्टया सुनियोजित ढंग से संगठित गिरोह द्वारा किया गया प्रतीत होता है. अनुसंधान के क्रम में इस तरह के और मामले प्रकाश में आने की प्रबल संभावना है. इन क्रियाकलापों के कारण पर्षद की लिखित परीक्षा की प्रक्रिया दूषित हुई है. उपरोक्त वर्णित तथ्यों के आलोक में पर्षद के द्वारा दिनांक 01.10.2023 (रविवार) को हुई दोनों पालियों की लिखित परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया गया है.