Daesh News

'एनिमल' फिल्म नहीं, बीमारी है, कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन बोलीं- मेरी बेटी रोते हुए थ‍ियेटर से निकली

संदीप वांगा रेड्डी की फिल्म 'एनिमल' विवादों में आ गई है. जिस तरह का वायलेंस इस फिल्म में दिखाया गया है, वो काफी डरा देने वाला है. एक्शन, ड्रामा, क्राइम, इंटीमेसी, डायलॉग्स, कई चीजें इस फिल्मों में विवादित बताई जा रही हैं. कहना गलत नहीं होगा कि 'एनिमल' कॉन्ट्रोवर्सी से घिरी हुई है. अब छत्तीसगढ़ की INC MP रंजीत रंजन ने फिल्म इंडस्ट्री और 'एनिमल' को लेकर संसद में अपनी राय रखी. विवाद अब संसद तक पहुंच चुका है.

रंजीत रंजन ने कही ये बात

रंजीत रंजन ने कहा- सिनेमा समाज का आईना होता है. इसे देखकर हम बड़े हुए हैं, सिनेमा देखकर और युवा काफी इन्फ्लूएंस होता है आजकल कुछ इस तरह की फिल्में आ रही हैं, अगर आप शुरू करें 'कबीर' से लकेर 'पुष्पा' और अभी एक पिक्चर चल रही है 'एनिमल'. मैं आपको कह नहीं पाऊंगी कि मेरी बेटी के साथ बहुत सारी बच्चियां थीं जो कॉलेज में पढ़ती हैं. सेकेंड ईयर में पढ़ती हैं. वो आधी पिक्चर में रोकर हॉल से उठकर चली गई. 

"आखिर इतनी हिंसा, और इतना वायलेंस और महिलाओं के साथ छेड़छाड़. इस तरह की चीजें पिक्चरों में दिखाना मुझे ठीक नहीं लगता. 'कबीर सिंह' ही देख लीजिए, किस तरह वो अपनी वाइफ को ट्रीट करता है, और लोग और समाज और पिक्चर भी उसको जस्टिफाई करते हुए दिखा रही है. ये बहुत ही सोचने वाला विषय है.  इन पिक्चरों का, इस वायलेंस का, इन निगेटिव रोल को पेश करने में हमारे आजकल 11वीं और 12वीं के बच्चे पर असर होता है. वो इसे रोल मॉडल मानने लगे हैं. पिक्चरों में क्योंकि देख रहे हैं, इसलिए समाज में भी हमें इस तरह की हिंसा देखने को मिल रही है."

"तीसरा उच्चकोटि का इतिहास है पंजाब का. हरी सिंह नल्वा का. उसमें एक गाना है कि फड़ के गंडासी मारी... ये इतिहास को एक गैंगवार में, दो परिवारों की नफरत की लड़ाई में जोड़ दिया है. फ‍िल्म में हीरो कॉलेज में बड़े-बड़े हथ‍ियार ले जाकर वो जिस तरह मारता है, वो खराब नजर आता है. कोई कानून उसे सजा तक नहीं दे रहा है, ये सब पिक्चर में दिखाया गया है, जो कि गलत है."

"जहां तक अर्जन वैली का सवाल है, हरी सिंह नल्वा जो कमंडर इन चीफ थे सिख फोर्स के, जिन्होंने मुगलों के खिलाफ, अंग्रेजों के खिलाफ, उनकी बढ़ती हुई सत्ता को रोकने के लिए लड़ाई लड़ी थी, उनका बेटा था अर्जन सिंह नल्वा. जो पाकिस्तान के गुजरा से, जब पूरा इंडिया एक साथ था, उन्होंने कई मुस्लिमानों को 1947 में बचाने का काम किया था. इस उच्चकोटि के इतिहास को इस पिक्चर में गलत तरह से दिखाया गया है. धार्मिक आस्था को भी बहुत ज्यादा दर्द महसूस कराता है."

एनिमल फ‍िल्म पर विवाद बढ़ता साफ नजर आ रहा है. कई स्टार्स ने इस मूवी की तरफदारी करते हुए सपोर्ट में मैसेज किए हैं. फ‍िल्म की कमाई भी करोड़ों में हो रही है. देखना होगा कि ये विवाद आगे क्या मोड़ लेता है.