Daesh News

BPSC ने शिक्षक अभ्यर्थियों को दी बड़ी राहत, रजिस्ट्रेशन को लेकर आया बड़ा अपडेट

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) इन दिनों फुल फॉर्म में है. एक के बाद बड़े-बड़े फैसले ले रही है. इसके साथ ही बिहार में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर फुल स्पीड में है. बीपीएससी के माध्यम से पहले चरण में एक लाख 22 हजार 336 शिक्षकों की नियुक्ति की गई. हाल ही में नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र भी बांटा गया. जिसके बाद अब दूसरे चरण की नियुक्ति के लिए पांच नवंबर से रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया था. अब तक अभ्यर्थी 14 नवंबर तक विलंब शुल्क के बिना पंजीकरण कर सकते थे और विलंब शुल्क के साथ अभ्यर्थी 17 नवंबर तक रजिस्ट्रेशन कर सकते थे. 

बीपीएससी ने दी बड़ी राहत 

लेकिन, बीपीएससी की ओर से इसमें बदलाव कर दिया गया और शिक्षक अभ्यर्थियों को बड़ी राहत दी गई है. दरअसल, शिक्षक नियुक्ति के दूसरे चरण के लिए अभ्यर्थी अब बिना विलंब शुल्क के 17 नवंबर तक रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. वहीं विलंब शुल्क के साथ पंजीयन की कोई तिथि निर्धारित नहीं की गई है. आयोग के सचिव रवि भूषण ने बताया कि अब तक छह लाख अभ्यर्थियों ने पंजीयन किया है. बता दें कि, इसे लेकर मंगलवार यानी कि 14 नवंबर को ही बीपीएससी की ओर से नोटिस जारी करते हुए जानकारी दी गई है.

25 नवंबर तक कर सकते हैं आवेदन 

वहीं, जो जानकारियां बीपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट bpsc.bih.nic.in पर दी गई है. उसके मुताबिक, ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तारीख जो पहले थी अभी भी वही है. 25 नवंबर तक आवेदन करने की अंतिम तारीख है. वहीं वर्ग 1 से 5 के लिए निबंधन, भुगतान एवं ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि 16 नवंबर से 25 नवंबर तक है. यह भी बता दें कि, रजिस्ट्रेशन में यदि किसी अभ्यर्थी को किसी त्रुटि के बारे में पता चलता है तो वह नए सिरे से रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू कर सकता है. 

दोबारा पंजीकरण कराने पर ये सब करना होगा

यदि उम्मीदवार दोबारा पंजीकरण कराते हैं तो उन्हें नए सिरे से शुल्क का भुगतान करना होगा. फीस न चुकाने की स्थिति में उनका रजिस्ट्रेशन मान्य नहीं होगा. आयोग के सचिव रवि भूषण के मुताबिक, यदि कोई भी अभ्यर्थी दोबारा पंजीकरण कराता है तो उसके बाद के पंजीकरण को सही मानते हुए पहले वाला पंजीकरण रद्द माना जाएगा. इसलिए बार-बार प्रक्रिया शुरू करने से पहले आयोग की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन एवं आवेदन संबंधी दिशा-निर्देशों को ध्यानपूर्वक पढ़ने के लिए आगाह किया जाता है.