Daesh News

सीएम नीतीश की नाराजगी पर खुद मुख्यमंत्री ने लगाया विराम, बीजेपी को ऐसे दिया जवाब

स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्मदिवस पर राजकीय जयंती समारोह का आयोजन पाटलिपुत्रा पार्क, पटना में किया गया. राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की. इस अवसर पर सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग के कलाकारों द्वारा आरती-पूजन, बिहार गीत एवं देश भक्ति गीतों का गायन भी किया गया. कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कई मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दी. खासकर इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनकी नाराजगी को लेकर सब कुछ क्लियर कर दिया है.

नाराजगी के सवाल पर दी प्रतिक्रिया

इस दौरान जदयू पार्टी से संबंधित प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि, कौन क्या बोलता है हम ध्यान नहीं देते हैं. आजकल लोग अपने लाभ के लिए जो जी में आए बोलते रहते हैं. किसी को कुछ लाभ मिलने नहीं जा रहा है. हमारी पार्टी में सब एकजुट हैं, कहीं किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है. हम सभी लोग एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं. नाराजगी के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि, हमको कुछ नहीं चाहिए, नाराज होने की बात ही कहां बनती है. हम कहीं नाराज नहीं है जो कुछ भी कहा जा रहा है वह गलत बात है. उन्होंने आगे कहा कि, सीट बंटवारा भी समय पर हो जाएगा.

'मीडिया वालों पर नियंत्रण किसी और का है'

वहीं, राज्य में नौकरी को लेकर सीएम नीतीश ने कहा कि, राज्य में बड़े पैमाने पर बहाली हो रही है. हमने घोषणा किया था कि, 10 लाख बहाली करेंगे. उसमें आधा के करीब हम पहुंच चुके हैं. हमलोग एक-एक काम कर रहे हैं. आप मीडिया वालों पर नियंत्रण किसी और का है. हम आपकी इज्जत करते हैं और करते रहेंगे. आपलोग खूब आगे बढ़िए. हमारी पार्टी और 'इंडिया' गठबंधन एकजुट है. हमारी अपनी कोई इच्छा नहीं है. सब लोग साथ मिलकर चलें यही हम चाहते हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी को लेकर दी प्रतिक्रिया

इसके साथ ही अटल बिहारी वाजपेयी को लेकर कहा कि, अटल जी की सरकार में हम तीन-तीन विभागों के मंत्री थे. वे मुझे बहुत मानते थे. मुझे बिहार का मुख्यमंत्री बनाने में अटल जी का बहुत बड़ा योगदान है. उनके प्रति मेरा आदर का भाव हमेशा से रहा है और हम जब तक हैं वो जीवनभर रहेगा. जब तक अटल जी प्रधानमंत्री थे तो किसी भी धर्म के मानने वालों को किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होती थी. स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी की आइडियोलॉजी से संबंधित प्रश्न का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि, हमलोग जो भी अपनी बात रखते थे वे उसको स्वीकार करते थे. उनके समय में बहुत काम हुआ. हर क्षेत्र में उन्होंने मदद किया, हमने काम भी किया है.