Daesh News

महिलाओं के हंगामे के बाद CM नीतीश ने मांगी माफी, हाथ जोड़कर प्रकट किया खेद

बिहार विधानमंडल का हंगामेदार शीतकालीन सत्र जारी है. सत्र के दूसरे दिन जनसंख्या नियंत्रण को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विवादित बयान दिया, जिसके बाद सियासी बवाल हो गया. हर तरफ सीएम नीतीश कुमार की निंदा की जा रही है. बात करें लें, महिलाओं की तो खास कर उनका गुस्सा भड़क उठा. महिलाओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से माफी मांगने की बात कही. इसके साथ ही जमकर खरी-खोटी सुना दी. एक महिला ने कहा कि, उस दौरान सदन में मौजूद सभी महिलाओं का सर शर्म से झुक गया था. बिहार की महिलाओं के लिए शर्मनाक बता है कि, उनके सीएम के मुंह से ऐसी बात कही जा रही है. 

महिलाओं ने जमकर किया कड़ा विरोध 

इसके साथ ही महिला ने यह भी कहा कि, सीएम नीतीश 18 साल से मुख्यमंत्री हैं. क्या उन्हें नहीं पता कि, किस तरह के शब्द वे सदन में महिलाओं के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके अलावे एक अन्य महिला ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का मुंह नोंच लेने की बात कही. इतना ही नहीं, सीएम नीतीश कुमार का मुंह काला करने की भी बात कही. इसके साथ ही सीएम नीतीश का मानसिक संतुलन बिगड़ने की भी बात कही. इस दौरान महिलाओं से जब डिप्टी सीएम को लेकर सवाल किया गया कि, तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश का समर्थन किया है. तब महिलाओं ने तेजस्वी यादव को भी लपेट लिया. तेजस्वी यादव को लेकर महिलाओं ने कहा कि, जैसा सांगत है वैसा उनका रंग दिख रहा है.

मुख्यमंत्री ने सभी से मांगी माफी 

हालांकि, महिलाओं के कड़े विरोध के बाद अपने बयान को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज सुबह माफी मांग ली है. सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि, मेरे बयान से किसी को ठेस पहुंची हो तो मैं माफी मांगता हूं. जनसंख्या नियंत्रण के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है और मेरा मकसद सिर्फ और सिर्फ शिक्षा के बाद जनसंख्या वृद्धि में आ रहे परिवर्तन को बताना था. यदि मेरे बयान की निंदा हो रही है तो मैं माफी मांगता हूं और अपने शब्दों को वापस लेता हूं. अगर इसके बाद कोई भी मेरी निंदा करता है तो मैं उसका अभिनंदन करता हूं. बता दें कि, सीएम नीतीश कुमार दिए गए बयान से सियासी उठा-पटक लगातार जारी है.