Daesh News

समस्तीपुर में CM नीतीश ने किया श्री राम जानकी मेडिकल कॉलेज अस्पताल का उद्घाटन, कहा- यह तो शुरुआत है

अयोध्या में 22 जनवरी को रामलला प्राण प्रतिष्ठा होनी है. उससे एक दिन पहले यानी 21 जनवरी 2024 को सीएम नीतीश कुमार ने समस्तीपुर के लोगों को श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल की बड़ी सौगात दी है. मुख्यमंत्री ने आज समस्तीपुर में श्रीराम जानकी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का उद्घाटन किया. 591 करोड़ की लागत से 500 बेड के अस्पताल का निर्माण किया गया है. इस मौके पर उपमुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव के अलावे वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी और अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहे. इस कार्यक्रम में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय को भी बुलाया गया था. कार्यक्रम में विधानसभा उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी सहित कई नेता और अधिकारी मौजूद रहे.

नीतीश ने ही किया था शिलान्यास

समस्तीपुर में श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के निर्माण का शिलान्यास साल 2018 में हुआ था. बिहार का यह 14वां सरकारी मेडिकल कॉलेज है, जहां एमबीबीएस की 120 सीटों के लिए दाखिला होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के निर्माण का शिलान्यास किया था और आज 500 बेड के इस कॉलेज और अस्पताल का उद्घाटन कर दिया.

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा से पहले कॉलेज का शुभारंभ

सियासी गलियारों में श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल की चर्चा इसलिए अधिक हो रही है, क्योंकि 22 जनवरी को अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का उद्घाटन और प्राण प्रतिष्ठा है. उससे ठीक एक दिन पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने श्रीराम और माता जानकी के नाम पर बने मेडिकल कॉलेज और अस्पताल का उद्घाटन कर दिया है. राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा से ठीक पहले श्रीराम जानकी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का उद्घाटन के पीछे बड़ा सियासी कारण माना जा रहा है. कहा जा रहा है कि राम मंदिर को लेकर बीजेपी माहौल बनाने में लगी है. इसीलिए बिहार सरकार ने इस अस्पताल का नाम भगवान राम और मां सीता के नाम पर रखा है. विपक्ष वैसे भी बीजेपी पर भगवान राम को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाता रहता है. विपक्ष का आरोप है कि बीजेपी वाले भगवान राम के साथ मां सीता को नहीं जोड़ते हैं. 

बता दें कि समस्तीपुर जिले के सरायरंजन प्रखंड के नारघोघी में मेडिकल कॉलेज के निर्माण के लिए मठ ने जमीन दान में दी थी. इसके बाद 6 नवंबर 2019 को बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया था. मेडिकल कॉलेज का निर्माण तय सीमा के अंदर हो इसको लेकर सीएम खुद मॉनिटरिंग कर रहे थे. 

केंद्र और राज्य सरकार ने इतनी राशि की खर्च

श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज कॉलेज एंड हॉस्पिटल के निर्माण पर कुल 591 करोड़ रुपए की लागत आई है. इसमें केंद्र की तरफ से 113 करोड़ और राज्य सरकार की ओर से 478 करोड़ की राशि खर्च की गई है. 500 बेड वाले इस मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का भवन 6 मंजिल का है. 

नीट के तहत होगा छात्रों का नामांकन

मेडिकल एंट्रेंस टेस्ट (नीट) के तहत यहां 100 छात्र-छात्राओं का पढ़ाई के लिए नामांकन होगा. इसके अलावा कॉलेज में एएनएम, जीएनएम, पारा मेडिकल और नर्सिंग कोर्स की भी पढ़ाई होगी. अस्पताल में एडवांस ओपीडी, आईसीयू, लेबर रूम, मॉडल ऑपरेशन थिएटर, रेडियोलॉजी, पैथोलॉजी के साथ-साथ ब्लड बैंक भी होगा. डॉक्टरों के रहने के लिए आवास का निर्माण किया गया है. सरकार इस पूरे मेडिकल कॉलेज कैंपस में हर तरह की सुविधा मुहैया कराने जा रही है.

आधुनिक सुविधाओं से लैस है मेडिकल कॉलेज

यह मेडिकल कॉलेज काफी आधुनिक तकनीक से बना है. इसके लिए ग्रीन बिल्डिंग का निर्माण, भूकंप रोधी संरचना, बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम, सोलर लाइट का प्रावधान, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाया गया है. वातानुकूलित कॉलेज और अस्पताल भवन है. इस भवन का कुल क्षेत्रफल 13,29,031 वर्गफीट में है. 

मरीजों को ठहरने के लिए बनाया गया है धर्मशाला

अस्पताल में इलाज कराने आने वाले मरीजों को ठहरने में कोई दिक्कत न हो उसके लिए अलग से 100 बेड का एक धर्मशाला का भी निर्माण किया गया है. यही नहीं मेडिकल की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स के लिए छात्रावास, जिम, केंद्रीय पुस्तकालय और खेल के मैदान की व्यवस्था भी की गई है. भगवान राम के नाम पर अत्याधुनिक सुविधाओं से बने श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल का लाभ बिहार के लोग उठा सकेंगे. 

इस अस्पताल में आधुनिक ऑपरेशन थियेटर की व्यवस्था है. अस्पताल में ही मरीजों के ब्लड इत्यादि जांच के लिए विशेष लैब बनाई गई है. अस्पताल परिसर में ही एक्सरे की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा पूरे अस्पताल में हर बेड तक ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था की गई है. अस्पताल सुचारू रूप से आज से नये भवन में उद्घाटन के बाद शिफ्ट हो जाएगा. जिससे इस इलाके के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा मिल पाएगी. समस्तीपुर और आसपास के जिलों में रहने वालों के लिए ये अस्तपाल बहुत मददगार साबित होगा. 

नए मेडिकल कॉलेज में भी होगी OPD

नए मेडिकल कॉलेज में भी प्रत्येक दिन ओपीडी का संचालन होगा. तिथि निर्धारित होने के बाद सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक और शाम के 3 बजे से 5 बजे तक ओपीडी संचालित किया जाएगा. वहीं श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के भवन निर्माण कार्य को अंतिम रुप देने की प्रक्रिया भी तेज है. अस्पताल से संबंधित भवनों का कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है. अब उसे अंतिम रुप दिया जा रहा है.

23 डॉक्टरों की हो चुकी है पोस्टिंग

श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में डॉक्टर्स, नर्स और कर्मियों की पोस्टिंग कर दी गई है. एसकेएमसीएच की प्राचार्य डॉ. आभा रानी सिन्हा को प्राचार्य के रूप अतिरिक्त प्रभार दिया गया है. डीएमसीएच की अधीक्षक डॉ. अलका झा को श्रीराम जानकी मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है. इसके अलावा उपाधीक्षक सहित कुल 23 डॉक्टरों की पोस्टिंग इस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में की गई है.