Daesh News

दिल्‍ली के बढ़ते वायू प्रदूषण पर एम्स के पूर्व डायरेक्‍टर रणदीप गुलेरिया की चेतावनी

दिल्‍ली के वायु प्रदूषण ने चिंता बढ़ा दी है. हर गुजरते दिन के साथ हालात खराब हो रहे हैं. दिल्ली में वायु प्रदूषण इस समय सबसे बड़ी समस्‍या बनी हुई है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार, लगातार पांच दिनों तक गंभीर वायु गुणवत्ता के बाद दिल्ली में प्रदूषण का स्तर मंगलवार सुबह थोड़ा कम हुआ और "बहुत खराब" श्रेणी में दर्ज किया गया. राष्ट्रीय राजधानी का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 394 रहा, जो सोमवार शाम 4 बजे दर्ज किए गए 421 से मामूली सुधार है. देश के सबसे प्रदूषित शहरों में आज शीर्ष पर उत्‍तर प्रदेश का ग्रेटर नोएडा है, जहां एक्‍यूआई 441 (गंभीर श्रेणी) दर्ज किया गया है. 

देश के टॉप-10 प्रदूषित शहर...

देश के टॉप-10 प्रदूषित शहरों की लिस्‍ट में आज सबसे ऊपर उत्‍तर प्रदेश का ग्रेटर नोएडा है, जहां एक्‍यूआई लेवल 441 के स्‍तर यानी गंभीर श्रेणी में बना हुआ है. वहीं, दूसरे स्‍थान पर हरियाणा का फतेहबाद है, जहां एक्‍यूआई 428 के स्‍तर पर है. तीसरे स्‍थान पर राजस्‍थान का गंगानगर है, जहां एक्‍यूआई लेवल 406 है. हरियाणा के हिसार में भी एक्‍यूआई लेवल 406 है. हरियाणा का जींद(398), राजस्‍थान का धौलपुर(393), दिल्‍ली (393), राजस्‍थान का भिवाड़ी (389), हरियाणा का सोनीपत (380) और हरियाणा का फरीदाबाद (375) भी आज टॉप 10 प्रदूषित शहरों में शामिल है.   

दिल्‍ली के बढ़ते वायु प्रदूषण ने चिंता पैदा कर दी है. हर गुजरते दिन के साथ महानगर की आबोहवा बिगड़ती जा रही है. इसने स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी मुश्किलें भी पैदा कर दी हैं. अस्‍पतालों में सांस के रोगियों की संख्‍या में इजाफा हुआ है. इस बीच एम्स के पूर्व निदेशक और वरिष्ठ पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बड़ी चेतावनी दी है. उन्‍होंने उन लोगों को घर में रहने की सलाह दी है जिन्‍हें ज्‍यादा जोखिम है. इनमें गर्भवती महिलाएं, बुजुर्ग, बच्‍चे, सांस के मरीज, कम इम्‍युनिटी वाले लोग शामिल हैं. डॉ गुलेरिया ने कहा है कि अगर बाहर जाना जरूरी है तो लोग मास्क लगाकर निकलें. 

डॉ गुलेरिया के मुताबिक, बहुत जरूरी स्थिति में तभी निकलें जब धूप निकल आए. धूप में ग्राउंड लेवल पर प्रदूषण तुलना में कम होता है. गर्म हवा से पल्‍यूटेंट ऊपर चले जाते हैं. जबकि सुबह और शाम को पल्‍यूटेंट ग्राउंड लेवल पर ज्‍यादा होते हैं. यही कारण है कि एम्‍स के पूर्व प्रमुख ने वरिष्ठ नागरिकों को सलाह दी है कि वे सुबह जल्दी या देर शाम को सैर पर न जाएं.

डॉ गुलेरिया एयर प्यूरीफायर को लेकर भी बोले हैं. उन्‍होंने कहा है कि इसे लेकर मजबूत डेटा नहीं हैं. कुछ आंकड़े हैं जो कहते हैं कि एयर प्‍यूरीफायर कुछ हद तक मदद कर सकते हैं. लेकिन, इन्‍हें लेकर और स्‍टडीज की जरूरत है. ऐसे में इन पर बहुत भरोसा नहीं किया जा सकता है.

बता दें कि दिल्‍ली में एक्‍यूआई लेवल कुछ कम जरूर हुआ है, लेकिन धुंध की मोटी चादर अब भी नजर आ रही है और कई लोगों को सांस लेने में दिक्‍कत व आंखों में जलन की समस्‍या देखने को मिल रही है. दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनज़र 5 नवंबर तक पांचवीं तक के स्कूल बंद किए गए थे. अब इसे बढ़ाकर 10 नवंबर कर दिया गया है. दिल्‍ली में बढ़ते प्रदूषण से स्कूली बच्चों को बचाने के लिए गुरुग्राम और फरीदाबाद प्रशासन ने नर्सरी से पांचवीं कक्षा तक की कक्षाएं निलंबित करने का आदेश दिया है. फरीदाबाद के उपायुक्त विक्रम सिंह ने भी मंगलवार से पहली से पांचवीं कक्षा तक के बच्चों के लिए 12 अक्टूबर तक स्कूल बंद रखने का आदेश दिया है. जिले में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) पिछले एक सप्ताह से 'बेहद खतरनाक' बना हुआ है. सोमवार को यह 412 पर पहुंच गया, जबकि औद्योगिक जिला देश के सबसे प्रदूषित शहरों में पांचवें स्थान पर था. 

कुछ स्कूलों में ऑनलाइन क्लास शुरू

खतरनाक स्तर पर पहुंचे प्रदूषण ने पैरंट्स की चिंता बढ़ा दी है. अभिभावक छोटे बच्चों के लिए स्कूल से छुट्टी या ऑनलाइन क्लास की मांग कर रहे हैं. जिला विद्यालय निरीक्षक ने अवकाश को समाधान नहीं बताया है. स्कूल, यूनिवर्सिटी प्रशासन और प्रबंधन को एनजीटी और ग्रैप के नियमों का पालन करने के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं. साथ ही, परिसर में पानी छिड़काव करने की हिदायत दी है. इस बीच कई स्कूलों ने ऑनलाइन क्लास शुरू करने की जानकारी दी है.

दिल्‍ली में फिर 'ऑड-ईवन' फॉर्मूला लागू

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने सोमवार को घोषणा की कि वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने की कवायद के तौर पर शहर में 13 से 20 नवंबर तक ऑड-ईवन कार योजना लागू की जाएगी. राय ने कहा, "दिल्ली में दीवाली के बाद 13 से 20 नवंबर तक ऑड-ईवन योजना लागू की जाएगी. इस योजना की अवधि बढ़ाने पर फैसला 20 नवंबर के बाद लिया जाएगा." इस योजना के तहत ऑड या ईवन पंजीकरण संख्या वाली कारों को वैकल्पिक दिनों (एक दिन छोड़कर एक दिन) पर चलाने की अनुमति दी जाती है.