Daesh News

देश का पहला एयरपोर्ट बना देवघर, अब 3200 मीटर विजिबिलिटी में कॉमर्शियल विमान की होगी लैंडिंग

देवघर. डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने देवघर एयरपोर्ट पर विजुअल फ्लाइट रूल्स में बदलाव करते हुए उड़ान के लिए नया एसओपी जारी किया है. नए रूल्स के तहत देवघर एयरपोर्ट को मिली विशेष मंजूरी के तहत अब देवघर हवाई अड्डे से लो विजिबिलिटी में विमान की लैंडिंग की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो गई है. डीजीसीए के मुताबिक, देवघर एयरपोर्ट अब देश का ऐसा पहला एयरपोर्ट बन गया है, जहां से यात्री विमान के साथ ही कमर्शियल विमान की भी लो विजिबिलिटी में उड़ान और लैंडिंग मुमकिन हो पाएगी.

लो विजिबिलिटी में किन-किन विमानों का होगा संचालन?

डीजीसीए की तरफ से जारी किए गए नए एस ओ पी के मुताबिक अब देवघर एयरपोर्ट से 3200 मीटर की विजिबिलिटी में 180 यात्रियों की क्षमता वाले विमान लैंड कर सकेंगे. 3600 की विजिबिलिटी में टेक ऑफ भी होगा. इसके अलावा 78 यात्री की क्षमता वाले एटी आर-72 विमान 2800 मीटर की विजिबिलिटी में लैंड कर सकेगा साथ ही 3200 मीटर की विजिबिलिटी में टेक ऑफ करेगा. आपको बता दें कि, फिलहाल 5000 की विजिबिलिटी में देवघर एयरपोर्ट पर विमान लैंड नहीं कर पा रहा था जिसके कारण कई उड़ानों को रद्द करना पड़ रहा था.

डीजीसीए ने पहले किया मूल्यांकन, एप्रोच कंट्रोल यूनिट का ट्रायल सफल

लो विजिबिलिटी में लैंडिंग की समस्या को देखते हुए पिछले दिनों डीजीसीए ने वी एफ आर (विजुअल फ्लाइट रूल्स) के दायरे पर एक व्यापक स्टडी किया. जिसके बाद राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को ध्यान में रखकर शेड्यूल ऑपरेटर और नेविगेशन सर्विस प्रोवाइडर और एयरपोर्ट के ऑपरेटर की टीम बनाकर पहले सुरक्षा का मूल्यांकन किया गया. इस मूल्यांकन के बाद ऑपरेटर की ओर से एक एसओपी तैयार की गई और डीजीसीए ने इसे अनुमोदित कर दिया. इस दौरान एटीएस और वायु सेवा के बीच प्रक्रिया और समन्वय बनाने के लिए बगैर यात्री के देवघर एयरपोर्ट में काम विजिबिलिटी में विमान का ट्रायल किया गया. यह ट्रायल पूरी तरह संतोषजनक पाए जाने के बाद डीजीसीए ने देवघर एयरपोर्ट पर लैंडिंग और टेक ऑफ के लिए स्पेशल वीएफआर की मंजूरी दी है.

क्या है डीजीसीए के पत्र में?

डीजीसीए के डायरेक्टर विनोद कुमार की ओर से इंडिगो को भेजे गए पत्र में मंजूरी की जानकारी देते हुए बताया गया है कि देवघर एयरपोर्ट से स्पेशल वीएफआर परिचालन पहली बार कमर्शियल उड़ानों के लिए शुरू किया जा रहा है. एयरलाइंस सेवा में यह आदर्श बदलाव का प्रतीक है जो लो विजिबिलिटी के कारण उड़ानों में देरी और रद्दीकरण की समस्या को खत्म करेगा साथ ही ऐसे अन्य छोटे हवाई क्षेत्र के लिए कनेक्टिविटी बढ़ाने का मार्ग प्रशस्त करेगा जिससे उड़ान प्रोजेक्ट को भी बढ़ावा मिलेगा.

देवघरवासियों के लिए गौरवांवित करने वाला अवसर- निशिकांत दुबे

देवघर एयरपोर्ट पर लो विजिबिलिटी में विमान के संचालन की अनुमति मिलने और इसको लेकर एसओपी जारी होने के बाद गोड्डासांसद निशिकांत दुबे ने ट्वीट कर देवघरवासियों के लिए इसे गौरवांवित करने वाला अवसर बताया है.