Daesh News

इजरायल-हमास युद्ध के बीच एलन मस्क को मिली वॉर्निंग, आखिर क्या रही वजह ?

इजरायल और हमास के बीच युद्ध के थमने के कोई आसार फिलहाल नहीं दिख रहे. इस बीच अब अमेरिका ने एंट्री ले ली है. दरअसल, ऐसा इसलिए क्योंकि मंगलवार देर रात गोला-बारूद से लैस एक अमेरिकी प्लेन इजरायल पहुंचा है. एजेंसी के मुताबिक हथियारों को ले जाने वाले इस अमेरिकी विमान में बेहद हाइटेक गोला-बारूद हैं. लेकिन, दूसरी तरफ हमास की ओर से भी लगातार हमले किये जा रहे हैं. वहीं, इन तमाम गतिविधियों के बीच एलन मस्क का नाम इन दिनों चर्चा में आ गया है. जानकारी के मुताबिक, यूरोपियन यूनियन ने हमास आतंकियों के हमले को लेकर एलन मस्क को वॉर्निंग दी है.   

ईयू ने बताई वॉर्निंग की ये वजह  

दरअसल, ईयू का कहना है कि, उनके सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म X पर फेक न्यूज प्रचारित की जा रही है जिसके लिए पुरानी तस्वीरों का सहारा लिया जा रहा है. बता दें कि, ईयू ने डिजटल सर्वेसेज ऐक्ट के तहत कुछ नए नियम लागू किए हैं. इन नियमों का पालन ना करने पर एक्स को अपने रेवेन्यू का 6 फीसदी जुर्माने के तौर पर देना पड़ सकता है या फिर ईयू के अंदर एक्स पर पूरी तरह रोक लगाई जा सकती है. वहीं, इस पूरे मामले को लेकर ईयू में डिजिटल सर्विसेज ऐक्ट के कमिश्नर थिएरी ब्रेटन ने एलन मस्क को एक लेटर जारी किया है. 

'X से हटाई जाए फर्जी सामग्री'

लेटर के जरिये कहा गया कि, तुरंत प्लैटफॉर्म से फर्जी सामग्री हटा ली जीए और वह यूरोपोल से संपर्क करेंगे. बता दें कि, यूरोपोल ईयू की पुलिस एनफोर्समेंट एजेंसी है. ईयू ने मस्क से अन्य एजेंसियों से भी 24 घंटे के अंदर संपर्क करने को कहा है. ब्रेटन ने कहा है कि, मस्क को पब्लिक सिक्योरिटी के नजरिए से ऐसी फर्जी सामग्री पर रोक लगाने और हटाने के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए. ब्रेटन ने आगे लिखा कि, हमास के आतंकी हमले के बाद हमें जानकारी मिली है कि आपके प्लैटफऑर्म का इस्तेमाल अवैध सामग्री और फर्जी खबरें फैलाने के लिए किया जा रहा है. एक्स पर डॉक्टर्ड वीडियो और इमेज डाली जा रही हैं जिनसे सुरक्षा का खतरा पैदा रहा रहा है. यहां तक कि वीडियो गेम्स के फुटेज को भी युद्ध का फुटेज बताकर पोस्ट किया जा रहा है।.

एलन मस्क ने पहले भी किया है वॉलंटरी कोड का उल्लंघन 

ब्रेटन द्वारा लिखे गए पत्र में आगे यह भी एलन मस्क को याद दिलाया कि, डिजिटल सर्विसेज ऐक्ट के तहत नए प्रावधान किए गए हैं. ईयू ने एक्स के पब्लिक इंटरेस्ट पॉलिसी के बारे में हालिया बदलाव पर भी चिंता जताई है. मस्क ने पहले भी ईयू के वॉलंटरी कोड का उल्लंघन किया था. ब्रेटन के लेटर में दो मुख्य बातें कही गई हैं. पहला है कि फर्जी कॉन्टेंट को एक्स से हटाया जाए और ऐसी सामग्री पर प्रतिबंध लगाया जाए. दूसरा अगर एक्स को कोई भी अवैध सामग्री को लेकर नोटिस मिलता है तो वह तुरंत प्रतिक्रिया दें और उस सामग्री को हटवा दें.

ईयू एलन मस्क पर कर सकती है कार्रवाई  

ईयू ने कहा है कि अगर कोई नियमों का पालन नहीं करता है तो उसके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी. अगर एलन मस्क सहयोग नहीं करते हैं तो उन पर जुर्माना लगा दिया जाएगा. बता दें कि, 10 अक्टूबर को पीएम मोदी ने बताया था कि इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने उन्हें फोन किया था. पीएम मोदी ने सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट कर लिखा कि, ''मैं प्रधानमंत्री नेतन्याहू का फोन करके मुझे स्थिति पर अपडेट देने के लिए धन्यवाद देता हूं. भारत के लोग इस मुश्किल घड़ी में इजरायल के साथ मजबूती से खड़े हैं. भारत आतंकवाद के सभी रूपों की कड़ी निंदा करता है.''