Daesh News

रेल हादसे पर पूर्व मध्य रेल के GM ने दिया रिएक्शन, राहत-बचाव के साथ घटना की जांच भी जारी

बिहार के बक्सर जिले में बुधवार को एक बड़ी रेल दुर्घटना हुई. यहां बक्सर और आरा के बीच रघुनाथपुर में नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस ट्रेन की कई बोगियां पटरी से उतर गई. जिसके बाद अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया. लगातार मौके पर राहत-बचाव कार्य जारी है. इस हादसे में 4 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है तो वहीं 100 से ज्यादा लोग घायल भी हो गए हैं. इस घटना के बाद पूर्व मध्य रेल के GM तरूण प्रकाश, दानापुर रेल मंडल के डीआरएम जयंत चौधरी समेत अन्य अधिकारी भी पहुंचे. इसके साथ ही कई राजनीतिक नेताओं ने इस हादसे पर दुख भी जताया.     

पूर्व मध्य रेल के GM ने दी जानकारी 

नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस ट्रेन के पटरी से उतरने की घटना पर ईसीआर (ईस्ट सेंट्रल रेलवे) के महाप्रबंधक तरूण प्रकाश ने कहा कि, 4 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. बचाव अभियान जारी है. 21 डिब्बे पटरी से उतरे हैं. अभी हमारी प्राथमिकता चिकित्सा सहायता देना है. जो यात्री हैं उन्हें गंतव्य तक पहुंचाना. ट्रैक बहाली का काम जारी है. इस दौरान उनसे पत्रकारों द्वारा हादसे का कारण भी पूछा गया. पत्रकारों को सूचना मिली थी कि, कई जगह पटरियां टूटी हुई थी, जिसके कारण यह हादसा हुआ. लेकिन, इस सवाल पर जीएम ने जांच की बात कही है. जांच के बाद ही हादसे का मुख्य कारण पता चल सकेगा.

बक्सर के डीएम ने भी दी जानकारी 

इससे पहले हादसे के बाद बक्सर के डीएम अंशुल अग्रवाल ने कहा था कि करीब 80 से 100 लोग घायल हुए हैं. इसमें से कुछ यात्रियों को पटना रेफर किया गया था. वहीं जिन चार लोगों की मौत हुई है उनकी लिस्ट जारी की गई है. चारों की पहचान हो गई है.

घटना पर DRM ने भी दिया रिएक्शन  

दरअसल जहां रेल हादसा हुआ है वह दानापुर रेल मंडल में आता है. मौके पर दानापुर रेल मंडल के डीआरएम जयंत चौधरी भी पहुंचे. उन्होंने रघुनाथपुर रेलवे स्टेशन के पास सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से कुछ घायलों को पटना एम्स और पीएमसीएच रेफर किया गया है. कुछ अभी भी इस अस्पताल में हैं. कई घायलों को डिस्चार्ज कर दिया गया. डीआरएम जयंत चौधरी ने बताया कि, इस हादसे में 20 डिब्बे पटरी से उतरे हैं. दो बोगियां पलटी हैं. रेल मंत्रालय की ओर से दुर्घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं. जांच टीम रेल मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी. जांच के बाद पता चलेगा कि, घटना कैसे हुई. हादसे के बाद रेलवे ने अपना काम शुरू कर दिया है. जल्द यातायात व्यवस्था दुरुस्त होगी. हालांकि, हादसे की वजह साफ नहीं हो सकी है. ट्रेन की रफ्तार 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटा बताई जा रही है.