Daesh News

UP के एक गांव की छात्रा ने ठुकराई 32 लाख की नौकरी, Google ने दिया ’56 लाख का जॉब ऑफर’

उत्तर प्रदेश के गोठवा गांव की युवा प्रतिभा आराध्या त्रिपाठी ने रिकॉर्ड तोड़ते हुए गूगल से 56 लाख रुपये की भारी भरकम नौकरी की पेशकश हासिल की है. गौरतलब है कि वो आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी या यहां तक कि आईआईआईटी से भी नहीं है!

जबकि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) भारत में सबसे अधिक वेतन पाने वाले स्नातक पैदा करते हैं, उत्तर प्रदेश के मगहर क्षेत्र के गोठवा गांव की निवासी आराध्या त्रिपाठी ने मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की.  उन्हें गूगल से 52 लाख रुपये का एक बड़ा पैकेज मिला है, जो इससे पहले एमएमएमयूटी के एक पूर्व छात्र को दिया गया अब तक का सबसे अधिक पैकेज है.

एक गांव से गूगल तक, एक वकील पिता और एक गृहिणी मां के घर जन्मी, आराध्या ने कम उम्र से ही पढ़ाई में प्रतिभा दिखाई. सेंट जोसेफ स्कूल में अपनी माध्यमिक शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बीटेक करने के लिए एमएमएमयूटी में दाखिला लिया. तब से उन्होंने न केवल विश्वविद्यालय में, बल्कि संपूर्ण तकनीकी उद्योग में अपनी पहचान बनाई है और Google में एक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर के रूप में अत्यधिक प्रतिष्ठित भूमिका निभाई है. दृढ़ संकल्प और कौशल के साथ तय की गई इस जर्नी 2023 में, आराध्या ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में स्केलर पर काम किया.

कंपनी में उनका कार्यकाल सफल रहा, इतना कि उनकी इंटर्नशिप पूरी होने पर, स्केलर ने उन्हें 32 लाख रुपये का पैकेज ऑफर किया जोकि एक अच्छी सैलरी थी, फिर भी जल्द ही Google के भारी ऑफर के बाद उन्होंने इसे अपनाया.  इंटर्नशिप के दौरान, आराध्या ने प्रतिस्पर्धी माहौल में काम करते हुए स्केलेबल उत्पादों और लाइव प्रोडक्शन ट्रैफिक को संभालने में व्यापक अनुभव हासिल किया है. उन्होंने लिंक्डइन पर अपने कौशल के बारे में विस्तार से बताया है कि मेरे पास React.JS, React Redux,  NextJs, टाइपस्क्रिप्ट, NodeJs, MongoDb, ExpressJS और SCSS जैसे कई तकनीकी स्टैक के साथ मजबूत पकड़ और अनुभव है.

आराध्या का कहना है कि मुझे डेटा स्ट्रक्चर्स और एल्गोरिदम में गहरी रुचि है और मैंने विभिन्न कोडिंग प्लेटफार्मों पर लगभग 1000+ प्रश्न हल किए हैं और उन पर मेरी अच्छी रेटिंग है. आराध्या त्रिपाठी की कहानी कड़ी मेहनत की वो मिसाल है जिसने साबित कर दिया है कि यह केवल उस कॉलेज के बारे में नहीं है जिसमें आप जाते हैं, ये आपकी प्रत‍िभा के बारे में है.