Daesh News

राज्यसभा में आधे घंटे का ब्रेक हुआ खत्म, इस पर क्या बोले डीएमके सांसद

देश में 4 दिसंबर 2023 से संसद का शातकालीन सत्र शुरू हुआ जो लगातार जारी है. इस बीच राज्यसभा से जुड़ी बड़ी खबर सामने आ गई है. दरअसल, राज्यसभा में शुक्रवार को लंच ब्रेक के बाद मिलने वाले आधे घंटे के एकस्ट्रा ब्रेक को खत्म कर दिया गया है. जिसके बाद यह चर्चा का विषय बना हुआ है. दरअसल, राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने शुक्रवार को बताया था कि, लोकसभा के शेड्यूल के अनुरूप उच्च सदन में भी दोपहर के भोजन के बाद के सत्र का समय दोपहर 2.30 बजे से बदलकर 2 बजे कर दिया गया है. इस निर्णय पर डीएमके सांसद तिरुचि शिवा ने प्रतिक्रिया दी.  

डीएमके सांसद ने उठाई आवाज

दरअसल, सुबह के सत्र में राज्यसभा में सूचीबद्ध कागजात पेश किए जाने के बाद, डीएमके सांसद तिरुचि शिवा ने दिन के कामकाजी कार्यक्रम में बदलाव की ओर इशारा किया और इसका कारण जानना चाहा. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि, ' शुरु से ही परंपरा रही है शुक्रवार को दोपहर का सत्र 2.30 बजे बुलाया जाता है. लेकिन, अब संशोधित कार्य सूची में यह समय दोपहर 2 बजे रखा गया है. जब यह तरह लिया गया, तो सदस्यों को इसकी जानकारी नहीं थी. साथ ही उन्होंने कहा कि, हम जानना चाहेंगे कि ऐसा बदलाव क्यों हुआ ?' बता दें कि, इस पर चर्चा यही पर नहीं थमी. इसके बाद डीएमके के ही सांसद एमएम अबदुल्ला ने कहा कि, यह एक्स्ट्रा ब्रेक इसलिए दिया गया था ताकि मुस्लिम सदस्य नमाज पढ़ सकें. 

सभापति जगदीप धनखड़ की प्रतिक्रिया

जिस पर प्रतिक्रिया देते हुए सभापति जगदीप धनखड़ ने कहा कि, उन्होंने पिछले सत्र के दौरान ही समय बदल दिया था, क्योंकि लोकसभा में दोपहर का सत्र दो बजे शुरू होता है. आगे उन्होंने कहा कि, 'यह आज के लिए नहीं किया जा रहा है. यह मेरे द्वारा पहले ही किया जा चुका है और इसका कारण बताया गया था. दोपहर के भोजन के बाद लोकसभा दोपहर 2 बजे बैठती है. लोकसभा और राज्यसभा को संसद का अभिन्न अंग होने के नाते यथासंभव एक ही समय का पालन करने की आवश्यकता है. इसलिए मेरे निर्देशानुसार इस सदन में भी दोपहर 2 बजे से कार्यवाही शुरू होती है. यह कोई आज शुरू नहीं हुआ है.'