Daesh News

भारत के Lakshadweep की चर्चा जोरों पर, Maldives से क्यों की जा रही तुलना ?

भारत के लक्षद्वीप की चर्चा इस वक्त पूरी दुनिया में हो रही है और इसकी वजह ये है कि हाल ही में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस अद्भुत और खूबसूरत द्वीपसमूह का दौरा किया था और उनकी शानदार तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं. इसके बाद कई लोगों ने लक्षद्वीप की खूबसूरती को जमकर सराहा और इस जगह को छुट्टियां बिताने के लिए तुलना करते हुए मालदीव से अच्छी जगह करार दिया. बस फिर क्या था, सोशल मीडिया पर बवाल हो गया और लोगों ने तरह-तरह की बातें करनी शुरू कर दी. पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीरों को लेकर मालदीव के कुछ मंत्रियों ने आपत्तिजनक टिप्पणी की. उनका कहना था कि लक्षद्वीप की तुलना मालदीव से नहीं की जा सकती है. जिसके बाद लोगों ने मालदीव का बायकॉट करना शुरू कर दिया. कहा जाने लगा कि मालदीव के नेताओं की तरफ से की गई टिप्पणी की वजह से वहां के पर्यटन उद्योग को घाटा होने वाला है. ऐसे में आइए जानते हैं कि मालदीव और लक्षद्वीप की तुलना कितनी सही है. दोनों के बीच क्या कुछ समताएं और विषमताएं हैं, ये सब जानेंगे.....

क्या है मालदीव का इतिहास ?

पहले बात करेंगे मालदीव की... आखिर मालदीव का इतिहास और भूगोल क्या है..... तो मालदीव एक मलयालम शब्द है, जिसका मतलब दीपों की माला होता है. मालदीव को 1965 में ब्रिटेन से आजादी मिली, जिसके बाद यहां राजशाही की स्थापना हुई. हालांकि, तीन साल बाद 1968 में मालदीव एक गणतंत्र बन गया. अगर इसकी लोकेशन की बात करें, तो ये भारत के दक्षिण-पश्चिम में है. केरल के कोच्चि से मालदीव की दूरी एक हजार किलोमीटर है. मालदीव हिंद महासागर में बसा हुआ काफी छोटा देश है. मालदीव 1200 द्वीपों का एक समूह है, जिसका क्षेत्रफल 300 वर्ग किलोमीटर में फैला है. इसकी आबादी 5 लाख के करीब है. मालदीव के ऊपर हमेशा जलवायु परिवर्तन का खतरा रहता है, क्योंकि ज्यादातर द्वीप समुद्र तल से छट फुट की ऊंचाई पर हैं. देश की अर्थव्यवस्था में पर्यटन की हिस्सेदारी सबसे ज्यादा है. जीडीपी का एक चौथाई यहीं से आता है. मालदीव में हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं. 

मालदीव में घूमने वाली जगहें...

बात करेंगे मालदीव में घूमने वाली जगहों की तो.... भारत से मालदीव की फ्लाइट कनेक्टिविटी काफी अच्छी है. लगभग सभी प्रमुख शहरों से मालदीव पहुंचा जा सकता है. भारतीयों के लिए मालदीव वीजा फ्री है. यही वजह है कि पिछले साल दो लाख से ज्यादा भारतीय मालदीव घूमने गए. सन आईलैंड, ग्लोइंग बीच, फिहालहोही आईलैंड, माले सिटी, माफुशि, आर्टिफिशियल बीच, मामीगिली जैसी जगहें पर्यटकों को काफी लुभाती हैं. यहां थ्री स्टार होटल की एक दिन की कीमत 5 हजार रुपये से शुरू होती है. 

लक्षद्वीप का क्या कुछ है इतिहास

अब बात करेंगे लक्षद्वीप की.... भारत के 8 केंद्रशासित प्रदेशों में से एक लक्षद्वीप है. केरल के कोच्चि शहर से इसकी दूरी 440 किलोमीटर है. मालदीव से इसकी दूरी 700 किलोमीटर है. लक्षद्वीप में 36 द्वीप हैं. इसका कुल क्षेत्रफल महज 32 किलोमीटर है. ये मालदीव के मुकाबले 10 गुना ज्यादा छोटा है. केंद्रशासित प्रदेश की कुल आबादी 60 हजार से ज्यादा है और यहां 96 फीसदी लोग इस्लाम धर्म को मानते हैं. 36 में सिर्फ 10 द्वीपों पर ही लोग रहते हैं, बाकि के द्वीपों पर रहने वाला कोई नहीं है. कवाराट्टी, अगाट्टी, अमिनी, कदमत, किलातन, चेतलाट, बिट्रा, आनदोह, कल्पनी और मिनिकॉय उन द्वीपों में शामिल हैं, जहां लोग रह रहे हैं. लक्षद्वीप में लोग मलयालम भाषा बोलते हैं. केंद्रशासित प्रदेश की कमाई का जरिया मछली पकड़ना और नारियल की खेती है. हालांकि, हाल के सालों में यहां पर्यटन उद्योग में भी बढ़ोतरी देखने को मिली है. बताया जाता है कि पिछले साल यहां पर 25 हजार लोग घूमने के लिए पहुंचे. हवाई मार्ग से लक्षद्वीप जाने के लिए सिर्फ एक हवाई पट्टी है, जो अगाट्टी में है. इसकी कनेक्टिविटी कोच्चि से है. लक्षद्वीप के बाकी के द्वीपों पर जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ता है. भारतीयों के लिए कहीं न कहीं लक्षद्वीप जाना थोड़ा मुश्किल है. सबसे पहले लोगों को कोच्चि जाना होता है. इसके बाद ही लक्षद्वीप का सफर किया जा सकता है. लक्षद्वीप को लेकर ध्यान देने वाली बात यह है कि, लक्षद्वीप जाने के लिए लोगों को प्रशासन के जरिए परमिट हासिल करना होता है. यहां के कई ऐसे द्वीप हैं, जहां लोगों के जाने की मनाही है. इसके लिए आपको सरकार से परमिट लेना पड़ेगा. तो कुल मिलाकर देखा जाए तो घूमने के लिहाज से दोनों जगहों की अपनी-अपनी विशेषताएं हैं.