Daesh News

क्या चीन फिर फैला रहा वायरस ? कर्नाटक, राजस्थान, हरियाणा समेत देश के कई राज्यों को किया अलर्ट

चीन में एक बार फिर से भयावह स्थिति उत्पन्न हो रही है. एक बार फिर कोरोना काल जैसी स्थिति उत्पन्न ना हो जाए उसे लेकर डर लोगों में समा गया है. दरअसल, कुछ दिनों से बच्चों में माइकोप्लाज्मा निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू के केस सामने आ रहे है. इसके अलावा कई बुखार के केस भी देखने को मिल रहे हैं. इस बीमारी की वजह से हर रोज 7000 बच्चे अस्पताल पहुंच रहे हैं. इस अलग-अलग बुखार को कुछ देश रहस्यमयी यानी mysterious बुला रहे हैं तो कुछ मेडिकल एक्सपर्ट इसे cocktail of virus का नाम दे रहे हैं. इसके साथ ही इसे लेकर हर तरफ चर्चा हो रही है. लेकिन, अब तक स्पष्ट तौर पर इस वायरस का पता नहीं चल पाया है. 

बीमारी को लेकर क्या कहना है एक्सपर्ट का... 

एक्सपर्ट की माने तो, कोरोना की तरह ये बीमारी भी संक्रामक है. ये चीन के एक शहर से दूसरे शहर में फैल रही है. WHO जवाब मांग रहा है, लेकिन चीन शांत है. उदाहरण के तौर पर देखें तो चीन के काफी हिस्सों में बिमारी फैल चुकी है. खासकर वहां के उत्तरी इलाके में इसका काफी ज्यादा असर है. कुछ मामले चीन के पड़ोसी देश वियतनाम से भी सामने आए हैं. ये साफ दिख रहा है कि बीमारी फैल रही है. ऐसे में इन संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है कि दूसरे देशों में भी ये बीमारी फैल सकती है. इसी को देखते हुए अब भारत में भी सतर्कता बरतने की सलाह दी गई है. आपको बता दें कि, केंद्र सरकार ने राज्यों को अलर्ट किया है.

महाराष्ट्र ने बढ़ाया कोविड प्रोटोकॉल लागू करने की ओर कदम   

एक ओर महाराष्ट्र सरकार ने तो एक बार फिर से कोविड प्रोटोकॉल लागू करने की ओर कदम बढ़ा दिए हैं. तो वहीं इसके अलावा हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, उत्तराखंड और तमिलनाडु की सरकारें भी सतर्क हो गई हैं. राज्य सरकार ने अस्पतालों से कहा है कि, वे पूरी तैयारी रखें. सांस लेने में परेशानी संबंधी मरीज आते हैं तो उनकी सही से जांच की जाए और पूरी निगरानी में रखा जाए. इसके अलावा सैंपल भी जिला स्तर पर कलेक्ट होंगे और उन्हें जांच के लिए लैबों में भेजा जाएगा.

कर्नाटक-राजस्थान-गुजरात में भी एडवाइजरी 

इधर, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से मौसमी बुखार से बचने की अपील की है. सरकार ने यह भी सलाह दी है कि लोगों को क्या करना चाहिए और क्या नहीं. वहीं, राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी एडवाइजरी जारी की है. मंत्रालय ने कहा कि, अभी कोई इमरजेंसी नहीं है, लेकिन निगरानी रखने की जरूरत है. खासतौर पर बच्चों के अस्पतालों में खास इंतजाम किए गए हैं. इसके साथ ही गुजरात की सरकार भी चीन की रहस्यमयी बीमारी और केंद्र की चिंताओं को लेकर अलर्ट है. राज्य के हेल्थ मिनिस्टर ऋषिकेश पटेल का कहना है कि कोरोना काल में तैयार हुए हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत किया जा रहा है. राज्य सरकार ने विभाग से कहा है कि, वह देखे कि हमारी तैयारी किस लेवल की है. 

जिसकी इम्यूनिटी कमजोर उसे करेगा अटैक  

वहीं, उत्तराखंड के लिए खास चिंता का विषय इसलिए है क्योंकि उसके तीन जिले चमोली, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ चीन से सटे हुए हैं. जिसके कारण अलर्ट जारी कर दिया गया है. इसके अलावा हरियाणा और तमिलनाडु में भी अस्पतालों के लिए एडवाइजरी जारी कर दिए गए हैं. बता दें कि, पिछले दिनों केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने इसे लेकर तुरंत समीक्षा करने की सलाह दी थी. इस बीमारी के फैलने को लेकर यह भी बताया गया है कि, बच्चों की इम्यूनिटी कमजोर होती है, इसलिए ये बीमारी बच्चों को अपनी चपेट में ले रही है. इसका मतलब ये नहीं है कि ये सिर्फ बच्चों में फैलने वाली बीमारी है. जिसकी भी इम्यूनिटी कमजोर होगी, ये बीमारी उसे अपना शिकार बनाएगी. इसके साथ ही ये बीमारी एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलती है. यही वजह है कि इस बीमारी के फैलने की संभावना बढ़ रही है.