Daesh News

इजरायल के पीएम नेतन्याहू ने हमास की तुलना खून पीने वाले राक्षसों से की, कहा-' हम टुकड़े-टुकड़े कर देंगे'

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार (15 अक्टूबर) को हमास के साथ युद्ध शुरू होने के बाद देश की आपातकालीन सरकारी कैबिनेट की पहली बैठक की अध्यक्षता की. कैबिनेट ने दक्षिणी इजरायल पर आतंकवादियों के हमले में मारे गए लोगों के लिए एक मिनट का मौन रखा गया.

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने बैठक के दौरान कहा कि हम एकजुट होकर चौबीस घंटे, टीम वर्क के साथ काम करते हैं. हमारे भीतर की एकता लोगों, दुश्मन और दुनिया को एक स्पष्ट संदेश देती है. वहीं एक शीर्ष विपक्षी इजरायली राजनेता ने बुधवार (13 अक्टूबर) को घोषणा की कि वह नेतन्याहू के साथ युद्धकालीन एकता सरकार में शामिल होने के लिए किए गए समझौते की वजह से पहुंच गए हैं.

सारे मंत्रियों ने एक मिनट का मौन रखा

इजरायल पूर्व रक्षामंत्री और सैन्य प्रमुख बेनी गैंट्ज़ ने नेतन्याहू के साथ एक संयुक्त बयान जारी किया. बयान में कहा गया है कि वे पांच सदस्यीय युद्ध-प्रबंधन कैबिनेट बनाएंगे. जब तक लड़ाई जारी रहेगी सरकार कोई भी कानून या निर्णय पारित नहीं करेगी जो युद्ध से जुड़ा न हो. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने बैठक में कहा कि मैं सरकार के सदस्यों से हमारे देश के लोगों और हमारे नायक सेनानियों की याद में एक मिनट का मौन रखने के लिए आग्रह करता हूं, जिनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई है. पीएम के आग्रह करने के बाद बैठक में मौजूद सारे मंत्रियों ने एक मिनट का मौन रखा. इस दौरान नेतन्याहू ने कहा कि ये राष्ट्रीय आपातकालीन सरकार की पहली बैठक है.

'हम हमास के टुकड़े-टुकड़े कर देंगे'

बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि मैंने हमारे अद्भुत सेनानियों को देखा जो अब अग्रिम पंक्ति में हैं, वे जानते हैं कि पूरा देश उनके पीछे है. वे कार्य की भयावहता को समझते हैं. वे खून पीने वाले राक्षसों और जो हमें नष्ट करना चाहते हैं उनका सफाया करने के लिए किसी भी पल कार्रवाई करने के लिए तैयार हैं.  अगर हमास ने सोचा कि हम टूट जाएंगे तो ऐसा नहीं है. हम हमास के टुकड़े-टुकड़े कर देंगे.