Daesh News

लालू-नीतीश के करीबी राधाचरण सेठ पर ED की कार्रवाई तेज, गिरफ्तारी के बाद आज होगी कोर्ट में पेशी

जदयू विधान पार्षद (एमएलसी) राधाचरण सेठ को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. पटना और भोजपुर में एमएलसी के आवास पर करीब 15 घंटे तक ईडी ने छानबीन की. इसके बाद राधाचरण सेठ को भ्रष्टाचार के आरोप में आरा (भोजपुर) से गिरफ्तार किया. मामले में आगे की कार्रवाई के लिए ईडी जेडीयू एमएलसी राधाचरण सेठ को आज करीब 11 बजे में कोर्ट में पेश करेगी. कोर्ट के आदेश के बाद ईडी मामले में आगे की विधिक कार्रवाई करेगी.

ED सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राधाचरण साह के कार्यालय से एक से एक डायरी भी बरामद की गई है. जिससे कई राज खुलने की आशंका है. बुधवार को बालू सिंडिकेट में फंसे राधाचरण को गिरफ्तारी करने के बाद ईडी की टीम उन्हें पटना लेकर आई. बताया जा रहा है कि ईडी के अधिकारियों ने उनसे रातभर पूछताछ की.

अधिकारियों के अनुसार, ईडी के विशेष न्यायालय में पेशी के दौरान अधिकारी कोर्ट से एमएलसी की रिमांड की मांग करेंगे। उन्हें प्रिवेंशन ऑफ मनीलान्ड्रिंग एक्ट (पीएमएल) एक्ट में गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तारी की सूचना भोजपुर में नवादा थाना को लिखित रूप से दी गई. बता दें कि भोजपुर पुलिस ने इसकी पुष्टि भी की है.

पुलिस के अनुसार, देर शाम ईडी के अफसर नवादा थाने पहुंचे और लिखित रूप से साह को गिरफ्तार कर ले जाने की सूचना दी. राधाचरण साह पर केंद्रीय एजेंसियों ने इस वर्ष की शुरुआत से ही दबिश देनी शुरू कर दी थी. पहले आयकर विभाग ने फरवरी में टैक्स चोरी के मामले में जदयू एमएलसी के आवास पर छापा मारा था. आयकर की कार्रवाई को आधार बनाकर इसी वर्ष छह जून को ईडी ने सेठ के पटना, हजारीबाग, धनबाद, कोलकाता के साथ ही देश भर में 24 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की थी.

इस कार्रवाई में ईडी को एक करोड़ से अधिक के नकद और 11 करोड़ की संपत्ति के दस्तावेज मिले थे। बैंक में छह करोड़ रुपये जमा होने की जानकारी भी मिली थी. तब सेठ के करीब 60 बैंक अकाउंट भी फ्रीज किए गए थे. अगस्त में जदयू एमएलसी सेठ और उनके पुत्र कन्हैया से प्रवर्तन निदेशालय की स्थानीय टीम ने भी लंबी पूछताछ की थी। इस पूछताछ के क्रम में ईडी को कई अहम जानकारियां मिली थी.

बता दें कि जदयू से पहले रामचरण सेठ राजद से भी एमएलसी रह चुके हैं. राजद में रहने के दौरान रामचरण आरजेडी सुप्रीमों के बेहद करीबी थी. इसके बाद जदयू में शामिल होने के बाद रामचरण बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भी करीबी बन गए. फिलहाल वो जदयू से दूसरी बार भोजपुर-बक्सर से एमएलसी है.