Daesh News

झामुमो के महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्या नीट परीक्षा में हुई धांधली को लेकर केंद्रीय जांच एजेंसी से निष्पक्ष जांच करने की मांग कर रहे हैं...

महासचिव एवं प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने शुक्रवार को पार्टी कार्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता के दौरान जेएमएम ने नीट परीक्षा धांधली को एक बड़ा घोटाला करार देते हुए सीबीआई और प्रभाव मुक्त ईडी जांच की मांग की है. क्योंकि इसमें बड़े पैसे का लेन-देना हुआ है. झामुमो ने सवाल किया है कि क्या यही पैसा शेयर बाजार में गया. क्योंकि दोनों की तिथि एक ही है. प्रधानमंत्री अपने नाकाबिल मानव संसाधन मंत्री को तत्काल बर्खास्त करे. उन्होंने कहा कि गुजरात पैन इंडिया पेपर लीक का एक हब कोटा बन गया है, उस पर जब तक पैनी नजर न जाये. कोटा का प्रतिनिधि कौन हैं, यह सभी जानते हैं।

उन्होंने कहा कि चार जून को देश के लोकसभा का परिणाम और एनटीए के द्वारा लिए गए प्री-मेडिकल एग्जाम नीट का भी रिजल्ट निकला. हमें पता चला कि रांची के एक मेधावी छात्र को 720 में 720 नंबर मिले. यह हमारे लिए यह गर्व का विषय था कि हमारे शहर का नाम पूरे देश में गौरवपूर्ण तरीके से सामने आया है. मगर कुछ देर बाद 719 और 720 का असली फिगर जब सामने आया तो पूरा देश दंग रह गया. कुछ लोग चुनाव के आपा-धापी में भूल गए थे कि बिहार, गुजरात और राजस्थान में तीन भाजपा शासित राज्यों में पुलिस ने नीट के पेपर लीक प्रकरण में कई लोगों को गिरफ्तार किया। सुप्रियो ने कहा कि विगत दस वर्षों के मोदी शासन काल में 41 बार पेपल लीक हुए. उसमें 17 बार यूपी में हुए केवल साढ़े सात साल में. एमपी में हुआ. गुजरात में हुआ. उत्तराखंड में हुआ. यह साधारण बात नहीं है. लाखों बच्चों के साथ, लाखों विद्यार्थी, जो विभिन्न तरह के प्रतियोगी परीक्षा का एग्जाम देते हैं. उनके साथ यह भद्दा मजाक किया जाता है. क्यों नहीं आज तक जो कुलीन वर्ग है, उनके दायरे में जो परीक्षाएं हैं… क्या कारण है उनका पेपर लीक नहीं होता है. केवल मध्यम एवं निम्न वर्गीय लोगों के बच्चों के ही पेपर लीक क्यों. जो एक-एक पैसा जोड़कर परीक्षा देते हैं, अपना भविष्य संयोजते हैं, अपनी पीढ़ी मजबूत करने का सपना देखते हैं,उनके साथ ऐसा क्यों ?

सरकार गठन के बाद जब यह मामला केंद्र के पास आया तो उसके मदर डिपार्टमेंट एचआरडी मिनिस्टर धमेंद्र प्रधान ने कहा कि कहीं कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ. कहीं पेपर लीक नहीं हुआ, मगर उन्हीं के शासित राज्यों के पुलिस ने इसे उजागार किया, पेपर लीक हुआ, लोग पकड़े गये. 30 लाख से 1-1 करोड़ तक में पेपर बेचे गये. यह पूरी तस्वीर साफ करता है कि किस पैमाने पर सरकार में बैठे लोग, केंद्र इन सभी लोगों का लिंक, कहीं न कहीं गुजरात और राजस्थान से जुड़ा हुआ है. कौन देगा इसका जवाब. एनटीए ने कहा कि हमने ग्रेस मार्क्स दिया था. क्यों दिया था, जब दिया तो कह रहे हैं कि इसे वापस लेते हैं पुन:परीक्षा लेना पड़ेगा. क्या यह स्टुडेंटस के साथ शोषण और भद्दा मजाक नहीं है. क्या उसको आप चने की झाड़ पर चढ़ा दिये. अब बोल रहे हैं कि फिर से परीक्षा दो. जो बच्चे सुप्रीम कोर्ट गये, केवल उन्हीं का वीथ ड्रा किया गया. एक तरफ बोल रहे हैं हम काऊसलिंग भी चलाएंगे. यह कौन सा मजाक चल रहा है. क्या इससे गुणवत्ता पूर्वक डॉक्टर आ पाएंगे क्या. तो भविष्य को हम किसको हवाले कर रहे हैं. जब आपके पास आधारभूत संचरना नहीं है तो आप क्यों लेते हैं इतने बच्चों का एग्जाम।

Scan and join

Description of image