Daesh News

अररिया पहुंचे केके पाठक ने स्कूल का किया निरीक्षण, स्मार्ट क्लास से लेकर लैब का लिया जायजा

कड़क आईएएस केके पाठक ने जब से शिक्षा विभाग की कमान संभाली है तब से वह लगातार फुल एक्टिव मोड में हैं. टीचर्स के साथ-साथ अधिकारियों पर भी ताबड़तोड़ शिकंजा कस रहे हैं और इसके साथ ही एक के बाद एक फरमान जारी कर रहे हैं. इसी क्रम में एक बार फिर केके पाठक का कड़क मिजाज दिखा. बता दें कि, इन दिनों केके पाठक खुद ही स्कूलों का निरीक्षण करने के लिए पहुंच जा रहे हैं. दरअसल, ACS केके पाठक अब अररिया पहुंचे जहां उन्होंने अलग-अलग विद्यालय का जायजा लिया. केके पाठक ने जिले के राजकीय उच्च विद्यालय अररिया, मध्य विद्यालय रहिका टोला और दक्षिण शिवपुरी अररिया पहुंचे. जहां उन्होंने क्लास रूम, लैब, शौचालय सहित अन्य स्थानों का जायजा लिया और आवश्यक दिशा-निर्देश उनके द्वारा मौके पर मौजूद प्रधानाध्यापक और अधिकारियों को दिया गया.

इस दौरान केके पाठक ने स्मार्ट क्लास का भी जायजा लिया. साथ ही बच्चो से कई सवाल-जवाब भी उनके द्वारा किये गए. बता दें कि, जब से केके पाठक ने शिक्षा विभाग के सचिव का पद संभाला है उसके बाद से लगातार वो एक्टिव हैं और राज्य के अलग-अलग विद्यालयों का दौरा कर शिक्षा व्यवस्था में सुधार को लेकर उनके द्वारा हर कदम उठाया जा रहा है. केके पाठक के मुताबिक, विद्यालयों में उपस्थिति 50% से ऊपर पहुंच चुकी है. वहीं, डीएम इनायत खान ने केक पाठक द्वारा किये गए निरीक्षण को लेकर कहा कि, विभिन्न विद्यालयों का दौरा कर छात्रों और शिक्षकों की उपस्थिति की समीक्षा की गई और आवश्यक दिशा-निर्देश उनके द्वारा दिया गया है.

बता दें कि, इससे पहले केके पाठक पूर्णिया पहुंचे थे जहां उन्होंने स्कूल में बच्चों के अनुपस्थित होने पर कड़ा एक्शन लेने के लिए कहा तो वहीं दूसरी तरफ शिक्षकों की क्लास भी लगा दी. इस दौरान विद्यालय के प्राचार्य को केके पाठक ने निर्देश दिया कि, तीन दिन से ज्यादा अनुपस्थित रहने वाले छात्र छात्राओं का नामांकन खत्म कर दिए जाए. वहीं, प्रत्येक दिन शौचालय की साफ-सफाई करवाने का निर्देश दिया. इसके साथ ही विद्यालय के प्रधान अशोक कुमार यादव ने बताया कि, स्मार्ट क्लास, बेहतर शिक्षा, छात्रों की उपस्थिति और साफ-सफाई को लेकर मुख्य सचिव ने कई निर्देश दिए. साथ ही आस-पास के कोचिंग संस्थानों के विद्यालय समय में चलाये जाने पर आपत्ति जाहिर किया और जिला शिक्षा पदाधिकारी को बंद कराने का निर्देश दिया.