Daesh News

अब 'X' यूज करने के लिए देने पड़ेंगे पैसे, एलन मस्क ने किया बड़ा ऐलान, जानिए पूरा मामला

कुछ महीने पहले ही ट्विटर का नाम बदलकर एक्स कर दिया गया. जिसके बाद से सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर कई तरह के बदलाव किये गए. इसी क्रम में एलन मस्क के द्वारा एक्स यूजर्स के लिए एक बड़ी घोषणा की गई है. जानकारी के मुताबिक, अब से एक्स पर जल्द नया अकाउंट बनाने के लिए यूजर्स को पैसे चुकाने पड़ेंगे. बता दें कि, इसकी घोषणा एलन मस्क ने लाइव स्ट्रीमिंग के दौरान की. उन्होंने कहा कि, वह एक नए प्रोग्राम को दो देशों में टेस्ट कर रहे हैं. इस प्रोग्राम का नाम 'Not a Bot' है.  

क्या है 'Not a Bot' प्रोग्राम  

'नॉट अ बॉट' प्रोग्राम के तहत यूजर्स को सबसे पहला काम अपना मोबाइल नंबर वेरिफाई कराना होता है. ये नियम नए यूजर्स के लिए भी लागू होता है. जैसे ही कोई यूजर फोन नंबर वेरिफाई करता है, उसे एक सब्सक्रिप्शन प्लान चुनना होता है. इसके लिए यूजर के पास तीन ऑप्शन- 1 डॉलर प्लान, X प्रीमियम और वेरिफाइड ऑर्गेनाइजेशन होते हैं. इन तीनों ही प्लान में ये सबसे सस्ता ऑप्शन है. इसमें आपको X पर कई सारे फीचर्स का एक्सेस मिलता है, जो पहले फ्री हुआ करते थे. कंपनी कमेंट पोस्ट करने, पोस्ट लाइक करने, पोस्ट पर रिप्लाई, कोट या किसी पोस्ट रिपोस्ट करने और पोस्ट बुकमार्क करने की सुविधा देती है. बता दें, ये फीचर्स अभी तमाम यूजर्स के लिए फ्री हैं.  

न्यूजीलैंड और फिलिपींस में प्रोग्राम किया शुरू 

खबर की मने तो, इस प्रोग्राम को शुरुआत में न्यूजीलैंड और फिलिपींस दो देशों में शुरू किया गया है. इसमें दिए जाने वाले फीस को दूसरे यूजर्स से इंटरैक्ट करने के लिए ली जाती है. नए यूजर्स सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नया अकाउंट फ्री में क्रिएट कर सकते हैं, लेकिन उन्हें सीमित एक्सेस मिलेगा. ऐसे यूजर्स सिर्फ दूसरे यूजर्स के पोस्ट पढ़ सकते हैं, वीडियो देख सकते हैं और यूजर्स को फॉलो कर सकते हैं. 

जानिए क्या है वजह 

वहीं, अब यह सवाल उठता है कि, आखिरकार अब तक यूजर्स को मुफ्त में सुविधा देने वाले एक्स ने पैसे लेने क्यों शुरू कर दिया. खबर की माने तो, इसे लेकर कंपनी का कहना है कि, ऐसा मुनाफा कमाने के लिए नहीं बल्कि स्पैम और बॉट्स की संख्या को कम करने के लिए किया जा रहा है. नए टेस्ट को छोटी सी फीस के साथ प्लेटफॉर्म की सर्विसेस का एक्सेस देने के साथ बॉट्स और स्पैम की संख्या कम करने के लिए डेवलप किया गया है. इस नए प्रोग्राम के तहत कंपनी की मंशा पैसा कमाना नहीं है.