Daesh News

मांझी पर CM नीतीश का अमर्यादित बयान नहीं सह पाएं PM मोदी, मुख्यमंत्री को जमकर सुनाया

बिहार विधानमंडल का शीतकालीन सत्र समाप्त हो गया है. लेकिन, सत्र के दौरान बिहार के मुखिया नीतीश कुमार पूरी तरह से विवादों में रहे. सदन के अंदर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विवादित बयान को लेकर हर किसी की ओर से खूब निंदा की गई. इसी क्रम में सदन के अंदर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर अमर्यादित टिप्पणी की थी. जीतन राम मांझी को बेइज्जत किया. इतना ही नहीं, जीतन राम मांझी को तुम-तड़ाक करते हुए नीतीश कुमार ने यहां तक कह दिया था कि, 'मूर्खता थी कि इसको सीएम बना दिया'.  

PM नरेंद्र मोदी ने दी प्रतिक्रिया 

जिसके बाद से सियासत में जमकर बवाल देखने के लिए मिला. शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन बीजेपी के तमाम नेता और विधायकों ने मांझी के समर्थन में प्रदर्शन किया. जिसके बाद अब देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रतिक्रिया दी है. दरअसल, शनिवार यानी की 11 नवंबर को सिकंदराबाद (तेलंगाना) में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर कटाक्ष किया. इस दौरान पीएम मोदी तमाम महागठबंधन के पार्टियों पर खूब हमला किया. 

महागठबंधन के तमाम पार्टियों को बनाया निशाना 

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि, 'दो दिन पहले बिहार में हमने देखा है कि विधानसभा में सदन के अंदर एक और दलित नेता, एक पूर्व मुख्यमंत्री का अपमान किया गया है. जीतन राम मांझी जो दलितों में भी अति दलित हैं, जिन्होंने अपने जीवन में बहुत ही संघर्ष किया है. उनको बिहार के सीएम ने बुरी तरह अपमानित किया. जीतन बाबू को जताने की कोशिश की गई कि वो सीएम पद के योग्य नहीं थे. ये अहंकार की भावना, दलितों के अपमान की भावना कांग्रेस और उसके सहयोगियों की पहचान है.'