Daesh News

मुंबई हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि, संविधान निर्माताओं को किया याद, पीएम मोदी ने की इन मुद्दों पर बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार 26 नवंबर को देशवासियों से 'मन की बात' की। उन्होंनेन्हों ने 107वीं बार देशवासियों को रेडियो से संबोधित किया. मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने सबसे पहले 2008 मुंबई आतंकी हमले की 15वीं बरसी पर मरने वालों को श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने कहा कि देशवासी आज भी इस आतंकी हमले को भूल नहीं पाए हैं. मन की बात में पीएम ने शादी की खरीददारी को लेकर भी देशवासियों से अपील की.

पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि आज ही के दिन 15 साल पहले मुंबई में हमारे लोगों ने आतंकी हमले को सहा. आज भी वो दुख हम भूल नहीं पाए हैं.

26 नवंबर का दिन एक और घटना का साक्षी

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में आगे कहा कि आज का दिन एक और घटना का साक्षी है. आज ही के दिन देश की संविधान सभा में संविधान को रखा गया था. संविधान को बनने में 2 साल 11 माह और 18 दिन का वक्त लगा था. इसे 60 से अधिक देशों के संविधान को पढ़ने के बाद बनाया गया था. इस काम में भीमराव आंबेडकर जी ने अहम योगदान निभाया.

अब तक 106 संशोधन

पीएम मोदी ने आगे कहा कि देश के संविधान ने भारत को निरंतर आगे बढ़ाने में अहम कड़ी का काम किया है. हालांकि संविधान को समय के साथ-साथ संशोधित भी किया गया. अब तक संविधान में करीब 106 संशोधन हो चुके हैं. पीएम मोदी ने इसमें 44वें संशोधन का भी जिक्र किया. कहा कि यह तब की बात है जब देश में इमरजेंसी की गलती को सुधारा गया.

शादी की खरीददारी में लोकल पर जोर रखें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'स्वच्छ भारत अभियान' और 'वोकल फॉर लोकल' अभियान की सराहना की. कहा, “स्थानीय उत्पादों का उपयोग करने की यह इच्छा केवल त्योहारों तक ही सीमित नहीं होनी चाहिए. मैं आपसे आग्रह करता हूं कि शादी की खरीदारी में भी स्थानीय उत्पादों को महत्व दें क्योंकि शादी का मौसम आने वाला है.' 'पीएम मोदी ने लोगों से सभी भुगतानों के लिए यूपीआई का उपयोग जारी रखने को कहा. कहा कि "पिछले महीनों में यूपीआई भुगतान में वृद्धि हुई है और मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप केवल यूपीआई भुगतान करें और मुझे अपने अनुभव के बारे में लिखें."