Daesh News

हैदराबाद में राहुल गांधी का नया अंदाज, ऑटो में बैठकर की सैर, क्या है इसके राजनैतिक मायने?

कांग्रेस नेता और सांसद राहुल गांधी ने ऑटो में बैठकर हैदराबाद शहर की यात्रा की है. कांग्रेस ने मंगलवार को इसका फोटो जारी किया है.  कांग्रेस पार्टी ने एक्स पर राहुल गांधी की ऑटो में बैठे हुए तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा है कि उन्होंने ऑटो ड्राईवर से कहा कि मुझे ऑटो से हैदराबाद दिखाओ. उनकी इच्छा पूरी करते हुए, एक हंसमुख ऑटो चालक उन्हें शहर की मनोरम यात्रा पर ले गया.

राहुल गांधी की ऑटो में बैठे तस्वीर शेयर करने के साथ ही कांग्रेस ने एक्स पर ऑटो ड्राईवरों, गिग वर्करों और सफाई कर्मियों की समस्याओं को सुनते तस्वीरें भी शेयर की है. इन तस्वीरों में दिख रहा है कि राहुल समाज के नीचले तबके के लोगों से मिलकर बातचीत कर रहे हैं.

इस दौरान राहुल ने उन्हें कांग्रेस पार्टी की योजनाओं की भी जानकारी दी है. राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार के लिए अपने इस नये तरीके को अपनाया है. स्थानीय नेताओं की तरह वह समाज के इन तबकों के बीच पहुंचे हैं. राजनैतिक विश्लेषक मानते हैं कि राहुल पिछले कुछ समय से अपनी छवि एक जननेता की बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

इससे पहले वह दिल्ली में समाज के विभिन्न तबके के कामगारों से मिल चुके हैं. दिल्ली में वह सब्जी विक्रेताओं, कुलियों, बाईक मेकिनक, बढ़ई आदि से मिलकर उनके कामकाज को नजदीक से समझ चुके हैं. हरियाणा की महिला किसानों को वह अपने घर पर आमंत्रण देकर खाना खिला चुके हैं. वह लद्दाख में स्पोर्ट्स बाईक की सवारी भी कर चुके हैं. राहुल गांधी ने इन कदमों की जहां एक ओर काफी सराहना हो चुकी है वहीं दूसरी ओर उनके आलोचक इसे महज जनसंपर्क का तरीका बताते हैं. 

कांग्रेस ने मंगलवार को एक्स पर लिखा है कि शहर की धड़कन ड्राइवर, गिग वर्कर और हैदराबाद के स्वच्छता नायकों से जुड़ती है. राहुल गांधी ने उनसे बातचीत कर उनकी चुनौतियों को समझने पर ध्यान दिया है. इस मुलाकात में एक ऑटो ड्राईवर ने उन्हें बताया कि हम दूसरे शहर से ऑटो लाकर किराये से चलाते हैं, इसमें डीजल और किराया देने के बाद हमारे पास पैसे नहीं बचते. हमारा गुजारा बहुत मुश्किल से हो रहा है. केसीआर सरकार ने हमें मदद देने की बात की थी, लेकिन कुछ नहीं किया.

एक महिला सफाई कर्मी राहुल से कहती है कि हम सुबह 03:30 बजे उठते हैं और काम करने के लिए 6 किमी. दूर जाते हैं. 12 घंटे काम करते हैं, साफ़-सफाई के काम में कई बार तबीयत भी बिगड़ जाती है लेकिन आज तक हमें परमानेंट नहीं किया गया.

वहीं फूड डिलिवरी का काम करने वाले फिरोज खान ने इस दौरान राहुल गांधी से कहा कि हम सबको खाना खिलाते हैं, लेकिन खुद 4-5 बजे खाना खाते हैं. इन गिग वर्करों से बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि राजस्थान में हमने गिग वर्कर्स की एक कैटेगरी बनाई है. उसमें जब भी कोई आर्डर आता है, उसका कुछ पैसा कंपनी की ओर से आपकी सोशल सिक्योरिटी जैसे इंश्योरेंस, पेंशन में चला जाता है.

कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी अपनी चुनावी रैलियों में बार-बार आम आदमी की बात करते हैं. कांग्रेस विभिन्न गारंटियों या योजनाओं के जरिये आम लोगों को लुभाने की कोशिश कर रही हैं. अब इसी कड़ी में राहुल आम लोगों के बीच पहुंचे हैं ताकि पार्टी की यह इमेज बन सके कि वह आम आदमी की पार्टी है.

तेलंगाना में चुनाव प्रचार कर रहे राहुल गांधी ने रैलियों और चुनावी सभाओं को संबोधित करने के परंपरागत तरीकों के साथ ही जनता के बीच पहुंचने के इस अपने खास अंदाज से एक बार फिर देश भर में लोगों को चौंकाया है. अब देखना है कि राहुल गांधी का यह तरीका तेलंगाना में पार्टी को कितना फायदा पहुंचा पाता है.