Daesh News

टाटा-आरा एक्सप्रेस का विस्तार बक्सर तक, टाटा-जयनगर ट्रेन की जल्द होगी शुरुआत

दक्षिण पूर्व रेलवे के जेडआरयूसीसी की 103 वीं बैठक कोलकाता के ताज बंगाल होटल में संपन्न हुई. बुधवार को हुई बैठक में सांसद विद्युत वरण महतो ने अपने लोकसभा क्षेत्र के विभिन्न मामलों को पुनः एक बार समिति के समक्ष रखा. सांसद ने जिन मांगों को मुख्य रूप से रखा उसमें टाटा-आरा ट्रेन को बक्सर तक ले जाने और टाटा से जयनगर रेल सेवा की शुरुआत शामिल है. इसके अलावा टाटा-लोकमान्य तिलक अंत्योदय एक्सप्रेस और टाटा-एलेप्पी का पुनः परिचालन करने शुरू करने की मांग की. साथ ही घाटशिला रेलवे स्टेशन पर संतरागाछी अजमेर शरीफ ट्रेन, गोरखपुर शालीमार ट्रेन, ताम्बरम एक्सप्रेस और समलेश्वरी एक्सप्रेस का ठहराव करने की मांग की गई. वहीं गालूडीह रेलवे स्टेशन पर इस्पात एक्सप्रेस, शालीमार कुर्ला, टाटा खड़गपुर मेमू ट्रेन का ठहराव करने और राखा माइन्स स्टेशन पर उत्कल एक्सप्रेस का ठहराव की मांग की गई. जुगसलाई और धालभूमगढ़ में फुट ओवर ब्रिज का निर्माण करने, घाटशिला के कुतलूडीह में रेल अंडर पास का निर्माण करने, बारीगोड़ा और गोविंदपुर में आरओबी का निर्माण करने की मांग भी शामिल है.

नई रेलवे लाईन पर भी चर्चा

इसके अतिरिक्त सांसद विद्युत वरण महतो ने चाकुलिया से बुड़ामारा रेलवे लाइन, चांडिल से पटमदा होते हुए झाड़ग्राम तक रेलवे लाइन, टाटा बादाम पहाड़ लाइन की दोहरीकरण की बात को रेखांकित किया. सांसद ने मांग की कि उनके लोकसभा के जिन स्टेशनों पर पहले बांग्ला में नाम लिखे जाते थे उसे फिर से वैसा लिखा जाए. इसके अतिरिक्त परसुडीह के मकदमपुर कॉलोनी में होने वाले जल जमाव के मामले को भी प्रमुखता से रखा और इसका स्थायी समाधान करने को कहा. सांसद ने कहा कि इसका निरीक्षण कर रेलवे के की ओर से समाधान किया जाना चाहिए.

फुट ओवरब्रिज की मिली स्वीकृति

बैठक में दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक अनिल कुमार मिश्रा ने बताया कि जुगसलाई और धालभूमगढ़ के फूट ओवर ब्रिज की स्वीकृति हो गई है. निकट भविष्य में इसकी निविदा निकाली जाएगी. जबकि बारीगोड़ा ओवर ब्रिज और गोविंदपुर ओवर ब्रिज के बारे में उन्होंने सूचित किया की रेलवे ने इसकी स्वीकृति दे दी है. राज्य सरकार की ओर से भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी करने के पश्चात इसका निर्माण कार्य प्रारंभ हो सकेगा. इसके अतिरिक्त अन्य सभी विषयों के संबंध में उन्होंने कहा कि वह समुचित अध्ययन कर इस पर ठोस पहल करेंगे. सांसद ने इन सभी मांगों के बाबत उन्हें अपना मांग पत्र भी समर्पित किया.