Daesh News

आज लगेगा साल का दूसरा और आखिरी सूर्यग्रहण, क्या भारत में होगा दृश्यमान ?

आज का दिन बेहद ही खास माना जा रहा है. आज साल का दूसरा और अंतिम सूर्यग्रहण लगने वाला है. यह कन्या राशि और चित्रा नक्षत्र में लगेगा. वहीं, यह सूर्य ग्रहण सर्व पितृ अमावस्या और शनि अमावस्या के संयोग में लग रहा है. बता दें कि, ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण काल को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है. सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है. 

क्या है सूर्यग्रहण का समय ? 

जानकारी के मुताबिक, आज का सूर्यग्रहण रात 8 बजकर 34 मिनट पर लगेगा और रविवार, 15 अक्टूबर को देर रात 02 बजकर 25 मिनट पर समाप्त होगा. यानी ग्रहण की अवधि 5 घंटे 51 मिनट की होगी. ग्रहण समाप्त होते ही अगली सुबह शारदीय नवरात्रि शुरू हो जाएंगे.

क्या भारत में दिखेगा सूर्यग्रहण ?  

कहा जा रहा कि, यह सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. साल का पहला सूर्यग्रहण 20 अप्रैल को लगा था. यह सूर्यग्रहण भी भारत में दृश्यमान नहीं था. यह एक कंकड़कृति सूर्यग्रहण है. यह सूर्यग्रहण ग्रहण उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, मध्य अमेरिका, उत्तरी अफ्रीका का पश्चिम किनारा अटलांटिक और प्रशांत महासागर में दिखाई देगा.

ये हैं सूर्यग्रहण की धार्मिक मान्यता 

पुराणों की माने तो, पहला सूर्यग्रहण समुद्र मंथन के समय लगा था. रामायण के अरण्य कांड में भी सूर्य ग्रहण का उल्लेख है. कहते हैं कि, भगवान राम ने इसी दिन खर-दूषण का वध किया था. महाभारत काल में जिस दिन पांडव जुए में हारे थे, उस दिन भी सूर्य ग्रहण लगा था. फर महाभारत युद्ध के 14वें दिन सूर्य ग्रहण था, जब अर्जुन ने जयद्रथ का वध किया था. कृष्ण की नगरी द्वारका भी सूर्य ग्रहण में डूबी थी. 

क्या सूतक काल होगा मान्य ? 

जानकारी के मुताबिक, ऐसे तो सूर्य ग्रहण से 12 घंटे पहले सूतक काल लग जाता है. लेकिन, सूतक काल सिर्फ तभी मान्य होता है, जब सूर्यग्रहण भारत में दृश्यमान हो. अब जबकि साल का आखिरी सूर्यग्रहण भारत में दृश्यमान नहीं होगा, इसलिए इसका सूतक काल भी लागू नहीं होगा.