Daesh News

कहानी भोजपुरी के पावर स्टार पवन सिंह की, जो किसी पहचान के मोहताज नहीं....

भोजपुरी सिनेमा में कंट्रोवर्शियल किंग के नाम से पहचाने जाने वाले पवन सिंह आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है. उनके करोड़ो प्रशंसक है. उनके फिल्म के साथ ही गाने का भी लोग बेस्रबी से इंतजार करते हैं. उनका गाना रिलीज के साथ ही हिट हो जाता है. पवन सिंह के लिए लोगों की दीवानगी सिर चढकर बोलती है. अब तक पवन सिंह ने अपने जीवन में कई उंचाईयों को पाया है. लेकिन, यह सब उन्हें इतनी आसानी से नहीं मिला है बल्कि इसके लिए उन्होंने कई उतार-चढाव देखे हैं. तो चलिए आज हम आपको पवन सिंह से जुड़ी कुछ रोचक बातें बताते हैं....

शायद ही कुछ लोग होंगे जिन्हें यह जानकारी होगी कि, एक समय ऐसा भी था जब एक्टर अपने चाचा के साथ साइकिल पर परफॉर्मेंस देखने के लिए जाया करते थे. इस दौरान इनके चाचा गाना गाते थे. पवन सिंह को पढ़ना नहीं आता था. एक्टर ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि, वह मात्र छह सात साल के थे, उस वक्त तक भी उन्हें पढ़ना नहीं आता था. लेकिन, गाने को सुनने के बाद उन्हें वह याद आ जाता था. बता दें कि, उनके चाचा साइकिल पर बैठाकर 30 किलोमीटर से भी अधिक दूरी तय करते थे और रात में पवन का स्टेज शो होता था. बच्चे थे तो जल्दी नींद आ जाती थी. ऐसे में चाचा जी आंख में पानी मार कर होश में लाते थे. आरा और आस-पास के जिलों में बात फैल चुकी थी कि एक छोटा सा लड़का है, जो भोजपुरी गाने में कहर बरपा रहा है. डाल्टेनगंज के एसपी का विदाई समारोह था, पवन को स्टेज शो के लिए बुलाया गया. बस, पवन के नाम का भौकाल हो गया और माइक सेट करने वाले ने पूरे शो की रिकॉर्डिंग कर ली. इसके साथ ही 'ओढ़निया वाली' नाम से कैसेट भी निकाल दिया. हर तरफ केवल पवन सिंह के ही चर्चे हो रहे थे.

बता दें कि, जब भी भोजपुरी इंडस्ट्री की बात होती है तब पवन सिंह का नाम जुबां पर ना आए ऐसा हो ही नहीं सकता है. 'ओढ़निया वाली' के बाद 'लॉलीपॉप लागेलू' गाने ने एक्टर को अलग पहचान दी. इस गाने ने दर्शकों को उनका दीवाना बना दिया था. गाना 'लॉलीपॉप लागेलू' के सफलता के बाद एक्टर को भोजपुरी फिल्मों में काम मिलना शुरू हो गया था. जानकारी के अनुसार, संघर्ष के दिनों में एक्टर की मां और चाचा ने उनका खूब साथ दिया. शुरुआत में पैसों की तंगी तो थी ही लेकिन, धीरे-धीरे समय बदलता गया और पवन सिंह ने अपनी गायकी के साथ ही अपने एक्टिंग से लोगों को दीवाना बना दिया.

हम आपको यह भी बता दें कि, पवन सिंह अपने गायिकी के भोजपुरी जगत में सबको इम्प्रेस किया. यही वजह है कि पवन सिंह को काफी पुरस्कार भी मिला है. पहला पुरस्कार दादा साहेब फाल्के फिल्म फॉउंडशन , 2016 में, सर्वश्रेष्ठ पुरुष गायक पुरस्कार 2017 में, अंतररास्ट्रीय पुरस्कार, 2017 में फिर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता एवं गायक पुरस्कार 2018 में सर्वाधिक लोकप्रिय अभिनेता पुरस्कार, 2019 में, मां तुझे सलाम के लिए जोड़ी पुरस्कार के साथ ही कई पुरस्कार मिले. नतीजन, आज पवन सिंह की फैन फॉलोइंग किसी बॉलीवुड सेलेब्रिटी से कम नहीं है.