Daesh News

22 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चलेंगे बड़ा दांव, क्या है INDIA गठबंधन में सीटों का फॉर्मूला?

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी पार्टियों के गठबंधन 'इंडिया' में सीटों की शेयरिंग एक बड़ी चर्चा का विषय रहा है. बिहार में इंडिया गठबंधन के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर जारी खींचतान के बीच 17:17:05:01 फॉर्मूले पर चर्चा होने की खबरें हैं. एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय जनता दल और जनता दल यूनाइटेड 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ सकती हैं और कांग्रेस के खाते में पांच सीटें आ सकती है. वहीं कम्युनिस्ट पार्टी इंडिया (एमएल) को एक सीट मिलने की संभावना है. बिहार में 40 लोकसभा सीटे हैं और ये पार्टियां राज्य के महागठबंधन का भी हिस्सा हैं.

हालांकि माना जा रहा है कि लेफ़्ट के कुछ नेता सीट शेयरिंग के इस फॉर्मूले का विरोध कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस का कहना है कि क्या समीकरण तय होगा इसका एलान जल्द होगा क्योंकि ‘अभी बहुत देर नहीं हुई है.’

 नीतीश कुमार 22 जनवरी को राज्य की विधानसभा को भंग कर सकते हैं

अख़बार के अनुसार, चर्चा है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 22 जनवरी को राज्य की विधानसभा को भंग कर सकते हैं. 22 जनवरी को ही अयोध्या के राम मंदिर में रामलला की प्रतिमा के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. माना जा रहा है कि नीतीश कुमार इस दिन ही बड़ा सियासी दांव चल सकते हैं.

जेडीयू और आरजेडी के बीच सीटों के इस फॉर्मूले पर सहमति बन गई

अख़बार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, जेडीयू और आरजेडी के बीच सीटों के इस फॉर्मूले पर सहमति बन गई है. साल 2019 में जेडीयू ने एनडीए का हिस्सा बन कर लोकसभा की 17 सीटों पर चुनाव लड़ा जिसमें से 16 सीट पर उसे जीत मिली थी. वहीं बीजेपी को सभी 17 सीटों पर जीत मिली थी. एनडीए की सहयोगी पार्टी एलजेपी को भी बीते लोकसभा चुनाव में छह सीटों पर जीत मिली थी. इसके अलावा महाराष्ट्र से भी इंडिया गठबंधन से जुड़ी ख़बर सामने आ रही है कि यहां भी सीटों के गठबंधन पर बात लगभग तय हो गई है.

अंग्रेज़ी अख़बार ने इससे जुड़ी एक रिपोर्ट छापी है. इस ख़बर के अनुसार, कांग्रेस, उद्धव ठाकरे की शिवसेना और शरद पवार की पार्टी एनसीपी ने 9 जनवरी को महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों की शेयरिंग की योजना बना ली है. ये तीनों ही दल इंडिया गठबंधन का हिस्सा तो हैं ही साथ ही राज्य के विधानसभा चुनाव के लिए बनाए गए गठबंधन महाविकास अघाड़ी गठबंधन (एमवीए) का भी हिस्सा हैं.

मंगलवार को हुई इस बैठक में ही प्रकाश आंबेडकर की वंचित बहुजन अघाड़ी को भी महाविकास अघाड़ी और इंडिया ब्लॉक में शामिल करने पर सहमति बनी. अख़बार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, ज्यादातर सीटों पर व्यापक सहमति बन गई है लेकिन सात से आठ सीटों पर अभी भी मतभेद बरकरार है. एक सूत्र ने अख़बार से कहा- आने वाले दिनो में एक और बैठक कर इन मतभेदों को सुलझाने की संभावना है.

इस बैठक के बाद शिवसेना (यूबीटी) के सांसद संजय राउत ने मीडिया से कहा- “हम सभी महाविकास अघाड़ी दल के लोग मुस्कुराते हुए बाहर आए हैं. संघर्ष के इस समय में हम सभी एक साथ हैं. हम साथ रहेंगे और साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे. हमने हर एक सीट पर बात की है और लगभग सीटों की शेयरिंग पर एक आम सहमति बन गयी है.” जब उनसे पूछा गया कि किसको कितनी सीटें मिली हैं तो इस सवाल पर उन्होंने कहा- “वो जानकारी बाद में आएगी.”

वैसे तो इसे लेकर कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है लेकिन ख़बर है कि कांग्रेस और शिवसेना (यूबीटी) 18-20 सीटों पर और एनसीपी 8 से 10 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.

महाराष्ट्र के कांग्रेस प्रमुख रमेश चेनिथल्ला ने कहा है, “ परेशानी की बात नहीं है और महराष्ट्र पहला राज्य होगा जहां सीटों की शेयरिंग सबसे पहले होगी. ”

कांग्रेस की राष्ट्रीय गठबंधन समिति ने उत्तर प्रदेश में सीटों के बंटवारे के लिए सपा नेता राम गोपाल यादव से भी बातचीत की. अख़बार को सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, सीटों की संख्या पर कोई चर्चा नहीं हुई क्योंकि मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों में सपा के साथ सीटों की शेयरिंग ना करने से दोनों दलों के रिश्ते में खटास आई है.

मध्यप्रदेश की कई रैलियों में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने खुलकर कांग्रेस की निंदा की थी और इसे ‘धोखेबाज़’ पार्टी कहा था. रिश्तों में आई इन दूरियों के बीच दोनों दलों की बीच हुई ये बैठक ‘आइस-ब्रेकर’ की तरह थी यानी इस बैठक में दोनों पार्टियों के बीच फिर से बातचीत की पहल हुई है.

उत्तर प्रदेश में गठबंधन के बीच सीट शेयरिंग क्या होगी, इसकी चर्चा 12 जनवरी को कांग्रेस और सपा के बीच जौनपुर में होने वाले बैठक में होने की संभावना है. राम गोपाल यादव से जब पत्रकारों ने ये पूछा कि क्या यूपी में इंडिया गठबंधन का हिस्सा बसपा भी होगी? तो उन्होंने जवाब दिया- “ ऐसी कोई चर्चा नहीं है. हमने मीडिया में आप लोगों के अलावा किसी से ये नहीं सुना है. मंगलवार की बैठक बहुत सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई और 12 जनवरी को एक और बैठक होगी. ”