Daesh News

विजयादशमी पर खूब हुआ सिंदूर खेला, माता रानी को बड़े धूमधाम से किया विदा

महानवमी पर बड़े ही धूमधाम से माता रानी के नौवे स्वरुप सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना की गई. देर रात तक नवरात्री की धूम राज्यभर में देखने के लिए मिली. वहीं, आज विजयादशमी का दिन है. बिहार के कई जिलों में आज लंका दहन का कार्यक्रम आयोजन किया गया है. राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में भी रावण के पुतले को खड़ा कर दिया गया है. जिसका मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दहन करेंगे. इस बीच खबर अररिया से है जहां विजयादशमी पर मां दुर्गा को सिंदूर लगाकर विदाई दी गई. इसके बाद महिलाओं ने एक-दूसरे को सिंदूर लगाकर विजयादशमी की बधाई दी. 

इस मौके पर अररिया के रामकृष्ण सेवा आश्रम स्थित दुर्गा मंदिर प्रांगण में बंगाली समाज की विवाहिताओं ने एक-दूसरे को सिंदूर लगाया और सदा सुहागन रहने की कामना की. इस दिन को बंगालियों द्वारा सिंदूर खेला मना कर मां दुर्गा को बिदाई देते हैं. इसलिए महिलाओं ने मां दुर्गा को सिंदूर लगाया. महिलाओं ने बताया कि, मां दुर्गा दस दिनों के लिए मायके आती हैं. विजयादशमी के दिन उनकी विदाई होती है, इसलिए मां दुर्गा को सिंदूर लगाकर और खोयचा भरकर विदाई की जाती है. इस दिन महिलाएं आमतौर पर लाल बॉर्डर वाली सफेद साड़ियां पहनती हैं और पारंपरिक आभूषण पहनती हैं. 

प्रत्येक महिला आरती करती हैं और देवी के माथे और पैरों पर सिन्दूर लगाती हैं. वे उन्हें मिठाई और पान भी खिलाती हैं/ इसके बाद महिलाएं एक-दूसरे के माथे पर सिन्दूर लगाती हैं. यह अनुष्ठान मूर्तियों के विसर्जन से पहले होता है. इसलिए मंदिर प्रांगण में महिलाएं सज-धज कर पहुंची थी. इस दिन महिलाओं का उत्साह देखते बनता है. इस मौके पर पूरा पूजा पंडाल आकर्षक लग रहा था. बताया गया कि, इस मौके पर सुख समृद्धि की कामना की जाती है. ताकि मां दुर्गा हम सभी के जीवन में खुशियां लाये और अगले वर्ष फिर इसी सुख-समृद्धि के साथ वापस आये.

अररिया से मुर्शिद रजा की रिपोर्ट