Daesh News

'कुर्मी समाज नीतीश को वोट नहीं करेगा, आरजेडी के चक्रव्यूह में फंस गए हैं', कभी नीतीश के करीबी रहे दिग्गज का अटैक

बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लेकर कभी उनके करीबी रहे उपेंद्र कुशवाहा ने तगड़ा अटैक किया है. उन्होंने कहा कि 'नीतीश कुमार आरजेडी के चक्रव्यू में फंस गए हैं, उनको देखकर मुझे तरस आता है.' आरएलजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने गया में ये टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार राज्य को 2005 के पहले वाला बिहार बनाना चाहते हैं. उन्होंने अपने पैर पर खुद कुल्हाड़ी मारे हैं, उनको देखकर तो मुझे तरस आता है. राष्ट्रीय लोक जनता दल पार्टी का गया में कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा शामिल हुए. इसी दौरान उपेंद्र कुशवाहा ने ये बातें कही.

जेडीयू समाप्त हो गई है- उपेंद्र कुशवाहा

राष्ट्रीय लोक जनता दल के नेता कार्यकर्ताओं ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष का गर्म जोशी के साथ जोरदार स्वागत किया. कार्यकर्ताओं से बताया कि रालोसपा का ही नया संस्करण राष्ट्रीय लोक जनता दल है. इस दौरान कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू समाप्त हो गई है. कुशवाहा ने कहा कि जब हम साथ में थे तो वह 120 से 118 सीट चुनाव जीते थे. जब उनसे अलग हो गए तो वह 43 सीट पर आकर थम गए.

'कुर्मी समाज नीतीश को वोट नहीं करेगा'

कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार अब अपनी पार्टी बचाने के लिए बड़े भाई लालू यादव संग चले गए हैं. उनको लगता है कि लालू जी उनसे दोस्ती किए हैं. लेकिन वो सिर्फ और सिर्फ अपने बेटा तेजस्वी को सीएम बनाना चाहते हैं. कुर्मी समाज के एक भी वोटर नीतीश कुमार को वोट नहीं करेंगे. ऐसा इसलिए क्योंकि नीतीश कुमार आरजेडी को सत्ता सौंपना चाहते हैं.

'देखना होगा कैसे इस चक्रव्यूह से बचते हैं नीतीश'

आरएलजेडी के मुखिया ने कहा कि 2005 से पहले बिहार में राजद की सरकार थी. राज्य के लोग इनका कार्यकाल बहुत अच्छे से देख चुके हैं कि कैसी परेशानी झेली है. उस समय लोग त्राहि त्राहि करते थे. नीतीश कुमार उन्हीं के हाथों गद्दी सौंपना चाहते हैं, और वैसा ही 2005 वाला बिहार बनाना चाहते हैं. कुशवाहा ने आगे कहा कि नीतीश कुमार ने अपने पैर पर खुद ही कुल्हाड़ी मारी है. उनको देखकर तो मुझे तरस आता है. ऐसा होने की वजह स्वयं नीतीश कुमार हैं. वो आरजेडी के चक्रव्यूह में फंस गए हैं. अब देखना है कि वह इस चक्रव्यूह से कैसे बचते हैं या क्या करते हैं?