Daesh News

वाघ बकरी चाय के मालिक पराग देसाई का निधन, कुत्तों ने किया था हमला, गिरने से सिर पर लगी चोट से मौत

गुजरात की फेमस वाघ बकरी चाय के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर और मालिक पराग देसाई का निधन हो गया है. वह 49 वर्ष के थे. ब्रेन हेमरेज के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, वह कई दिनों से वेंटिलेटर पर थे. 

बीते सप्ताह ईवनिंग वॉक के दौरान पराग देसाई गिर गए थे, जिसके बाद उनका ब्रेन हेमरेज हो गया था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक, पराग एक सप्ताह से अस्पताल में भर्ती थे. 

परिवार के करीबी और कंपनी के मार्केटिंग हेड के मुताबिक, पराग देसाई 15 अक्टूबर की शाम को अपने घर के पास वॉक पर निकले थे. शाम के समय कुछ कुत्ते उन पर भौंके जिसकी वजह से पराग देसाई वहां से भागने लगे, उनका पैर फिसला और गिर गए. गिरने की वजह से उनको नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां से उनको जायडस हॉस्पिटल शिफ्ट किया गया, ब्रेन हेमरेज होने के कारण ऑपरेशन किया गया, तब से वह वेंटिलेटर पर थे और रविवार की शाम को उन्होंने आखिरी सांस ली.  

कंपनी में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर पद पर थे तैनात

पराग देसाई वाघ बकरी चाय कंपनी के 6 ग्रुप ऑफ डायरेक्टर्स में से एक थे. वह कंपनी में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर की पोस्ट पर थे. उन्होंने अमेरिका की लॉन्ग आइडैंड यूनिवर्सिटी से एमबीए किया था. वह वाघ बकरी के लिए मार्केटिंग, सेल्स और एक्सपोर्ट डिपार्टमेंट का काम देखते थे. इसके साथ ही एक टी टेस्टर एक्सपर्ट भी थे. 

कंपनी का टर्नओवर 2 हजार करोड़ से ज्यादा

वाघ बकरी चाय ग्रुप, अपनी प्रीमियम चाय के लिए फेमस है. यह कंपनी साल 1892 से वजूद में है. कंपनी का टर्नओवर दो हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का है और चाय की डिस्ट्रिब्यूशन करीब 50 मिलियन किलो है. कंपनी का गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, गोवा, पंजाब, चंडीगढ़, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में अच्छा-खासा मार्केट है, जबकि हाल ही में बिहार, झारखंड और ओडिशा में व्यापार शुरू किया है.