Daesh News

बिहार में कहां-कहां होगी बारिश? मौसम विभाग का अलर्ट जारी, कई जगहों पर वज्रपात की संभावना

बिहार में मॉनसून एक बार फिर पूरी तरह से सक्रिय हो चुका है. राजधानी पटना समेत कुछ जिलों को छोड़ दें तो दक्षिण बिहार के अधिसंख्य जिलों में पिछले दो दिनों से भारी से अति भारी बारिश हो रही है. उत्तर बिहार में भी कई जिलों में हल्की से मध्यम स्तर की वर्षा दर्ज की जा रही है. पांच अगस्त तक राज्य के ज्यादातर जिलों में भारी से अति भारी बारिश के साथ संकेत हैं. वज्रपात की भी संभावना है.

मौसम विज्ञान केंद्र पटना के अनुसार उत्तर-पूर्व बंगाल की खाड़ी में बना अवदाब मंगलवार को उत्तर और उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ कर गहरे अवदाब में परिवर्तित हो गया है. इसके उत्तर-पश्चिम की ओर आगे बढ़ कर मंगलवार की शाम तक बांग्लादेश तट को पार करने की संभावना बनी थी. अगले 24 घंटों के दौरान इसे उत्तर-पश्चिम की ओर गंगीय पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ने की संभावना है. साथ ही मॉनसून द्रोणी रेखा का पश्चिम भाग गोरखपुर, पटना, श्रीनिकेतन से गुजर रही है. इन सभी के संयुक्त प्रभाव से राज्य में पांच अगस्त तक वर्षा का पूर्वानुमान है. ज्यादातर जिलों में मेघ गर्जन एवं वज्रपात की भी संभावना है. तेज सतही हवा भी चलने का पूर्वानुमान है.

आज सात जिलों में भारी बारिश के संकेत

बुधवार (2 अगस्त) को दक्षिण बिहार में मॉनसून पूरी तरह सक्रिय रहने वाला है. सात जिलों में भारी वर्षा की चेतावनी दी गई है. इनमें शामिल दो जिले रोहतास और भभुआ में बहुत ज्यादा भारी बारिश की चेतावनी दी गई है. वहां औरंगाबाद, गया, नवादा, भोजपुर और नालंदा जिले में भारी बारिश की संभावना है. राजधानी पटना समेत दक्षिण बिहार के एक-दो जिलों में कोई चेतावनी नहीं दी गई है. रोहतास, औरंगाबाद, भभुआ, बक्सर और भोजपुर में ज्यादातर जगहों पर मेघ गर्जन के साथ बिजली चमकने और वज्रपात की चेतावनी दी गई है. दक्षिण मध्य और दक्षिण पूर्व भाग में भी मेघ गर्जन के साथ बिजली चमकने एवं हल्की या मध्यम स्तर की वर्षा का पूर्वानुमान है.

तीन अगस्त को लेकर क्या है अपडेट?

मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार (3 अगस्त) को दक्षिण बिहार के कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद, गया, नवादा, बक्सर, भोजपुर, जमुई, बांका और भागलपुर में बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है. इसके साथ ही राज्य के ज्यादातर हिस्सों में सतही हवा की गति 30 से 40 किमी प्रति घंटे और झोंके के साथ 50 किमी प्रति घंटे के रहने का पूर्वानुमान है.

राज्य के कई जिलों के एक या दो स्थानों पर मेघ गर्जन एवं वज्रपात की भी संभावना है. मौसम विभाग ने मॉनसून की गतिविधियों को देखते हुए लोगों को उचित सावधानी बरतने की सलाह दी है. मंगलवार को सबसे अधिक गया में 110.4 मिलीमीटर के साथ भारी वर्षा दर्ज की गई तो औरंगाबाद में 64 मिलीमीटर के साथ भारी वर्षा हुई.

दक्षिण बिहार में वर्षा शुरू हुई तो उत्तर बिहार में तापमान में बढ़ोतरी के साथ उमस भरी गर्मी भी देखने को मिली. पुपरी में मंगलवार को 40.1 डिग्री सेल्सियस के साथ सबसे अधिक तापमान दर्ज किया गया. राजधानी पटना में 35.3 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा.