Daesh News

भोजपुर में महिला ने दो बेटों संग किया सुसाइड, मायके वालों ने लगाया ससुराल वालों पर आरोप

बिहार के भोजपुर में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां एक महिला घरेलू कलह से तंग आकर अपने दो बच्चों के साथ चलती ट्रेन के आगे कूद कर जान दे दी है. जबकि मृतिका के मायके वाले इस घटना को हत्या मान रहे हैं और उनका आरोप है कि विवाहिता के ससुराल वाले दहेज की मांग पूरी नहीं करने पर प्रताड़ित करते हुए बच्चों के साथ उसकी मां की हत्या कर शव को रेलवे ट्रैक पर फेंकने की आशंका जाहिर कर रहे हैं. दरअसल, यह घटना जिले के चरपोखरी थाना क्षेत्र अंतर्गत आरा-सासाराम रेल खंड के सेमरांव हाल्ट के पास पटना-सासाराम इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन से हुई है. जहां दो मासूम बच्चों समेत एक महिला की मौत हुई है.

इधर, घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय थाना पुलिस मौके पर पहुंची और रेलवे ट्रैक से तीनों शवों को बरामद कर मामले की छानबीन में जुट गई. मृतकों में चरपोखरी के दुलौर टोला निवासी पिंटू सिंह की 26 वर्षीय पत्नी गुड्डी देवी और दो पुत्र ढाई वर्षीय पतलू कुमार और एक वर्षीय चटलू कुमार शामिल हैं. मिली जानकारी के अनुसार, बताया जा रहा है कि अगिआंव गड़हनी थाना क्षेत्र के ईश्वरपुरा गांव निवासी शिवप्रश्न सिंह अपनी बेटी गुड़िया देवी की साल 2019 में चरपोखरी थाना क्षेत्र के सेमरांव दुलौर टोला निवासी पिंटू कुमार से हुई थी. शादी के कुछ साल बाद तक सब कुछ ठीक-ठाक था और उनको दो छोटे-छोटे मासूम बच्चे भी हुए. इसके बाद पति पत्नी और ससुराल के लोगों के बीच घरेलू कलह को लेकर झगड़ा होने लगा. जिसके बाद महिला परेशान होकर अपने बच्चों के साथ चलती ट्रेन के आगे कुद कर जान दे दी.

वहीं, मृतिका के पिता शिवप्रश्न सिंह की मानें तो उनकी बेटी की शादी के बाद से ही उसके पति, देवर, सास-ससुर सभी लोग दहेज में कीमती सामान की मांग कर रहे हैं और पूरा नहीं करने पर प्रताड़ित कर जान से मारने की बात भी करते थे. आज इसके ससुराल के लोगों के द्वारा मेरी बेटी और दो छोटे मासूम नाती की हत्या कर शव को रेलवे ट्रैक पर फेंक कर मामले को दूसरी तरफ मोड़ने का प्रयास किया है. मामले में पुलिस की मानें तो शुरुआती जांच में मौत का कारण ट्रेन से कटना बताया जा रहा है. हालांकि, मृतका के मायके पक्ष के लोग हत्या कर शव को रेलवे ट्रैक पर फेंके जाने का आरोप लगा रहे हैं. पुलिस ने तीनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल, आरा भेज दिया है.

तीनों मृतकों के शरीर पर ट्रेन से कटे के जख्म के निशान पाए जाने की बात सामने आ रही है. घटना को लेकर काफी देर लोगों की भीड़ लगी रही. वहीं, चरपोखरी थानाध्यक्ष संजय सिन्हा ने बताया कि, मृतका के ससुराल पक्ष का कहना है कि गुड्डी देवी सुबह पहर घर से बच्चों को लेकर दवा के लिए निकली थी. इस बीच हादसा हो गया. जबकि, मायके पक्ष के लोग हत्या कर शव फेंके जाने का आरोप लगा रहे हैं. उन्हें सबसे पहले रेलवे के माध्यम से सूचना मिली कि पटना-सासाराम इंटरसिटी एक्सप्रेस से कटकर महिला और बच्चों की मौत हो गई है. जिसके बाद वे घटनास्थल पर पहुंचे और तीनों शवों का पंचनामा बनाया. परिजन के लगाए आरोप पर भी जांच की जा रही है.

भोजपुर से गौरव सिंह की रिपोर्ट