Daesh News

दुर्गापूजा में डिज्नीलैंड घूमने का है प्लान ? तो पासपोर्ट नहीं सीधे पकड़िये कोलकाता की ट्रेन

अब से कुछ ही दिनों के बाद त्योहारों का सिलसिला शुरू हो जायेगा. सबसे नजदीक में देखें तो दुर्गापूजा का त्योहार कुछ ही दिनों में आने वाला है. जिसको लेकर भव्य रूप से तैयारियां की जा रही है. शानदार पंडाल बनाने से लेकर दुर्गा मां की मूर्तियां बनाने को लेकर तैयारियां जोर-शोर से चल रही है. तो क्या इस बार दशहरा की छुट्टी में आप कहीं बाहर जाने का प्लान बना रहे हैं ? या फिर बच्चों के साथ कहीं डिज्नीलैंड घूमने की सोच रहे तो आपके लिए खुशखबरी है. दरअसल, इस बार खास मौका है कि, आप अपने पूरे परिवार के साथ बिना फॉरेन ट्रिप के ही डिज्नीलैंड घूम सकते हैं.  

ना ही वीजा और ना ही पासपोर्ट की जरूरत 

डिज्नीलैंड घूमने के लिए आपको पासपोर्ट और वीजा ऑफिस के चक्कर लगाने की बिल्कुल जरूरत नहीं होगी. बल्कि डिज्नीलैंड घूमने के लिए सिर्फ कोलकाता पहुंचने की देर है. लेकिन, जरा संभलकर, कोलकाता पहुंचते ही कहीं भीड़ देखकर घबरा मत जाइएगा. क्योंकि, यह कोई आम समय नहीं बल्कि दुर्गापूजा का समय होगा और हम बात कर रहे हैं कोलकाता के सबसे चर्चित दुर्गापूजा कमेटी श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब के थीम की. दरअसल, कोलकाता में इस साल श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब के दुर्गापूजा पंडाल का थीम पेरिस का 'डिज्नीलैंड' ही रखा गया है. कोलकाता में दुर्गापूजा की बात ही अलग होती है. हर तरफ बस लोगों का रेला लगा होता है. यह समय ऐसा होता है जब इस महानगर को पहचानना ही मुश्किल हो जाता है. हर कोई बस खुद में ही खोया रहता है. कोई अपने दोस्तों के साथ, कोई परिवार, कोई अपने हमसफर तो कोई अकेला ही दुर्गापूजा को एंजॉय करता है.

पंडाल बनना हो चुका है शुरू 

बता दें कि, दुर्गापूजा अक्टूबर के अंत में होने वाली है, लेकिन इतने बड़े आयोजन की तैयारियां करने में भी उतना ही ज्यादा समय लगता है. इसलिए कोलकाता में अभी से ही दुर्गापूजा के पंडाल बनने शुरू हो चुके हैं. श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब के पूजा पंडाल का भी बांस से बनने वाला अंदरुनी सांचा तैयार करने काम जोरो-शोरों से चल रहा है. श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब हर साल किसी ना किसी थीम पर दुर्गापूजा पंडाल का निर्माण करती है. साल 2022 में कोलकाता के लेकटाउन इलाके में स्थित इस पूजा पंडाल ने बुर्जखलीफा की थीम पर पूजा पंडाल तैयार किया था. शाम के बाद आंखे चौंधियाने वाली लाइट एंड साउंड शो को देखने के लिए इतनी ज्यादा भीड़ उमड़ पड़ी थी कि कई बार पूजा पंडाल में लोगों के प्रवेश तक पर पाबंदी लगानी पड़ रही थी.

यूनिक थीम की वजह से चर्चे में रहता है पंडाल 

जानकारी के मुताबिक, इस पूजा पंडाल में हर साल आनुमानिक 10 लाख से ज्यादा लोग देवी दूर्गा के दर्शन करने और भव्य पंडालों को देखने पहुंचते हैं. इससे पहले साल 2015 में पूजा पंडाल को फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' के तर्ज पर बनाया गया था, जिसमें देवी दूर्गा को पूरी तरह से राजस्थानी लुक प्रदान किया गया था. कभी वेटिकन सिटी तो कभी बाहुबली, हर साल के अपने यूनिक थीम की वजह से यह पूजा पंडाल चर्चा का विषय बना रहता है.